पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 17 मई 2017

670..........तारा टूटे कहीं तो, भगवान करे उसे बस माँ देखे

सादर अभिवादन
कभी जिन्दगी का 
ये हुनर भी 
आजमाना चाहिए,
जब अपनों से 
जंग हो, तो 
हार जाना चाहिए
आज का पसंदीदा रचनाएँ.....

ज्‍यादा चर्चा रही सुप्रीम कोर्ट के आदेश की, कि‍ राष्‍ट्रीय राजमार्ग और स्‍टेट हाईवे से 500 मीटर दूर तक नहीं होगी शराब की दुकान। 
जाहि‍र है इस आदेश से देश में हडकंप है। कुछ लोग वि‍रोध में हैं 
तो कुछ समर्थन में। अनुमान है कि‍ इससे करीब 50 हजार करोड़ का नुकसान होगा राज्‍यों को। होटल इंडस्‍ट्री को दस-पंद्रह हजार 
करोड़ का झटका लगेगा तो उधर करीब दस लाख लोगों की नौकरी खतरे में पड़ सकती है।

सुब्ह-सुब्ह को उसका ख़्वाब इस क़दर आया
केतली से उट्ठी हो ख़ुश्बू चाय की जैसे

राख़ है, धुआँ है, इक स्वाद है कसैला सा
इश्क़ ये तेरा है सिगरेट अधफुकी जैसे


गुज़र गया है वक्त,.....कालीपद "प्रसाद"
मीना–ए-मय में’ मस्त सहारा शराब है 
गुज़र गया है’ वक्त, नहीं अब शबाब है | 

संसार में नहीं मिला दामन किसी का’ साफ 
प्रत्येक चेहरा ढका, काला नकाब है | 


मुद्दा तीन तलाक का,.....डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
मुसलमान सारे नहीं, करते कहाँ विरोध।
मगर डालते हैं यहाँ, कठमुल्ला अवरोध।।

सबके लिए बने यहाँ, अब समान कानून।
मज़हब के दो पाट में, पिसे नहीं खातून।।

समाज ..... संगतकार
मुझे यह निर्मम समाज नहीं चाहिए
मुझे ले चलो जहाँ निर्जन हो
मै अम्बर के साथ रो लूँगा
धरती पर निखहरा सो लूँगा
पर इस क्रूर और शुष्क समाज में नहीं !




क्या बात है...डॉ. सुशील जोशी
आज भी माँ 
जब भी कोई 
तारा टूटता है
मुझे कोई इच्छा 
नहीं याद आती है 

उस समय 
बस और बस 
मुझे तुम्हारी बहुत 
याद आती है ।

आज्ञा दें यशोदा को..









7 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रस्तुति। आभार यशोदा जी 'उलूक' के टूटते तारे को भी जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुती

    उत्तर देंहटाएं
  3. अतिसुन्दर ! संकलन आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया हलचल। मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...