पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 14 मई 2017

667...कुत्ते की पूँछ..क्या कभी सीधी हुई है..

सादर अभिवादन
आज मातृ-दिवस है
धूम-धाम से मनाया जा रहा है
हर वर्ष की तरह..
चन्द पंक्तियाँ....
एक माँ ही है जिसके प्यार में ना मिलावट काेई। 
दुनिया देखी लाेग देखे।
राक्षस देखे फ़रिश्ते देखे।

रिश्ते देखे दोस्त देखे।
हर कहीं पर मिलावट ही दिखी।

अलग अलग रंगो के फूल देखे।
एक माँ ही है जो देती है सब सुख -
उसके प्यार में ना मिलावट।

ना कभी चेहरे पे शिकन देखी।
बाकि तो सबके साथ अच्छा करने -
पर भी हर बार शिकायत देखी।
-विमल गांधी

पाठकों की पसंद...
इस बार किसी पाठक ने अपना रुचि नहीं दिखाई
सो इस बार मेरी ही पसंद की रचनाओं का आनन्द लीजिए

बोल, किस बात का डर है तुझे,
जो तेरे पास है, उसे खोने का
या उसे, जो तेरा हो सकता है?

अनज़ान रास्तों पे निकलना न परिन्दों 
मंजिल को हँसी-खेल समझना न परिन्दों 

आगे कदम बढ़ाना ज़रा देख-भाल कर 
काँटों से तुम कभी भी उलझना न परिन्दों 

खुद ब खुद 
होने लगती हैं अचानक 
कई क्रियाएँ। 
पता नहीं क्यों 
पर खुद ही बाँध लिए जाते हैं 
बंधन पाँव में। 

मन के 
आँगन की 
दीवारों पर... 
न जाने कहाँ कहाँ 
कौन कौन सी दरार ढूंढ कर 
उग आती हैं यादें 
और धीरे धीरे 
पीपल सी जड़ें जमा लेती हैं 

कुत्ते सारे 
मोहल्ले के 

आज सुबह
देखा हमने 
जा रहे थे 

सब अपनी 
अपनी पूँछ 
सीधी करके

पूछने पर 
पता चला 
नाराज हैं

हड़ताल 
पर जा 
रहे हैं
.......

सब पाठक इस सोच में हैं कि हिस्सा कैसे लें...
साधी सी बात..अपने द्वारा फॉलो किए ब्लॉग से पाँच लिंक चुनिए
और भेज दीजिए सम्पर्क फार्म के माध्यम से..
हर रविवार व गुरुवार को प्रकाशित हो जाएगी...
साथ ही साथ आप अपना संक्षिप्त परिचय भी दें
समय का ध्यान रखिएगा... कम से कम दो दिन पहले ही
प्रेषित कर दें...
आज्ञा दें यशोदा को
सादर

मातृ-दिवस की शुभकामनाएँ
एक 
माँ ऐसी भी...
हर माँ को अपना बच्चा प्यारा होता है
देखिए 2 मिनट चालीस सेकण्ड




5 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति। आभार यशोदा जी 'उलूक' के 'कुत्ते की पूँछ' को जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय ,यशोदा दीदी आपके अथक परिश्रम को नमन है, शानदार प्रस्तुति ,आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिलकुल सही है एक माँ ही है जिसके प्यार में कोई मिलावट नहीं होती।
    सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...