पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 12 मई 2017

665....जमीन पर ना कर अब सारे बबाल सोच को ऊँचा उड़ा सौ फीट पर एक डंडा निकाल

सादर अभिवादन

ज्येष्ठ मास का दूसरा दिन
ऋतु वर्षा का आगमन 
बस कुछ ही दिनों में
ऊमस के दिन..
सारा बदन चिपचिपा फिर भी
कहीं चिपकने का मन न करे

                        .............मन की उपज

चलिए इस अंक की पसंदीदा रचनाओं की ओर...

जाने किस मोड़ पे
हाथ छोड़ गयी,
शरारतें वो बदमाशियाँ
जाने कहाँ मुँह मोड़ गयी,
सतरंगी ख्वाब आँखों के,
आईने की परछाईयाँ,
अज़नबी सी हो गयी,

बीती रात, 
झकझोर दिया इक ख्याल ने 
उठ बैठी
अंधेरी काली रात में 
चहुँ ओर सिर्फ अन्धकार, 
बुझ गये सारे दीये, 
अरे, कोई टिमटिमा भी नहीं रहा, 


दुख का कारण....लघु कथा
नौकर ने अपनी ओढ़ी हुई चादर चोर को दे दी और बोला, इसमें बांध लो। उसे जगा देखकर चोर सामान छोड़कर भागने लगा। किन्तु नौकर ने उसे रोककर हाथ जोड़कर कहा, भागो मत, इस सामान को ले जाओ ताकि मैं चैन से सो सकूँ। इसी ने मेरे मालिक की नींद उड़ा रखी थी और अब मेरी। उसकी बातें सुन चोर की भी आंखें खुल गईं।


तू मेरे ब्लाग पे आ.....आनन्द पाठक
तू क्या लिखता रहता है , ये  बात ख़ुदा ही जाने 
मैने तुमको माना है  , दुनिया  माने ना माने 
तू इक ’अज़ीम शायर’ है ,मैं इक ’सशक्त हस्ताक्षर 
यह बात अलग है ,भ्राते ! हमको न कोई पहचाने



लहरा सोच 
को हवा में 
कहीं दूर 
बहुत दूर 
बहुत ऊँचे 

खींचता 
चल डोर 
दूर की 
सोच की 
बैठ कर 
उसी डन्डे 
के नीचे 
अपनी 
आँखें मींचे । 

आज्ञा दें यशोदा को..
सादर






10 टिप्‍पणियां:

  1. ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं के संग शुभ दिवस छोटी बहना 💐😍
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  2. तार्किक संकलन एवं बहुत सुन्दर । आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी आभार 'उलूक' के सूत्र को जगह देने के लिये। 'उलूक' का डंडा वो नहीं हैं जो आपने चित्र में दिखा दिया है। 100 फीट का जमीन पर गड़ा सीधा और खड़ा है :) समझिये जरा ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय भैय्या जी
      थोड़ा समझ का फेर हो गया
      सो पुलिसिया डण्डा लगा दी
      वो झण्डे वाला खम्भा है...
      बदल देती हूँ

      हटाएं
  4. और दूसरी बात जो मैं कहना चाह रहा था वो थी आनन्द पाठक जी की पोस्ट के बारे में।मैं सोच रहा था आपको लिंक भेजने की पर आपने मेरे मन की बात पढ़ ली :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढियासंकलन....
    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...