पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 10 मई 2017

663.....जा एक करोड़ का होजा

भगवान बुद्ध जयन्ती की शुभ की कामनाएँ

सादर अभिवादन....
आज की पढ़ी रचनाएँ....


घोड़ा/ मूंछ / सपना /फूल 
घोड़े पर चढ़ आया सवार
नाम था उसका फूलकुमार
घोड़े  ने जब फटकारी पूँछ
गिरा सवार और  कट गई मूंछ
पास न था कोई उसका अपना
देखा था उसने दिन में सपना
ठहर जाओ घड़ी भर तुम
जरा ये देख ले आँखें
थे सबके प्राण से प्यारे
किये अर्पण जो तुम सांसे.
जहाँ रौनक सवेरे थी

जब गुरु जी चले गये तब मेरे बेटे ने कहा चलो माँ अब हम दोनों भी खाना खा लेते हैं ,खाना वाकई में बड़ा स्वादिष्ट बना था ।
जब सब निपट गया तब मेरा बेटा बोला माँ अब बताओ आप खुश हो ना ,मैंने भी उसके सिर पर हाथ गिरते हुए कहा हाँ बेटा हाँ ।
बेटा बोला माँ आज मदर्स डे है , 
मैंनें आपको बोला था ना कि मैं हूँ ना ,और माँ आप 
हमारे लिए इतना करती हो क्या मैं आपके लिए इतना भी नही कर सकता क्या ? 

संवेदनाएँ! निरीह, लाचार खुद अन्दर से,
पतली सी काँच कहीं चकनाचूर रखी हों जैसे,
कनारों के धार नासूर सी डस रही हों जैसे,
अंतःकरण हृदय के, लहुलुहान कर गई ये ऐसे....



गधे की कब्र....लघुकथा

उस राहगीर ने सोचा कि जरूर किसी महान आत्मा की मृत्यु हो गयी है। तो वह भी झुका कब्र के पास। इसके पहले कि बंजारा कुछ कहे, उसने कुछ रूपये कब्र पर चढ़ाये। बंजारे को हंसी भी आई आयी। लेकिन तब तक भले आदमी की श्रद्धा को तोड़ना भी ठीक मालूम न पड़ा। और उसे यह भी समझ में आ गया कि यह बड़ा उपयोगी व्यवसाय है।


बीबी बच्चों का 
भविष्य बना
एक करोड़ का 
तू बीमा करा
इधर अफसर 
तीन सौ करोड़ 
घर के अन्दर 
छिपा रहा है
उधर उसका 
अर्दली दस करोड़
के साथ पकड़ा 
जा रहा है
तू कभी कुछ 
नहीं खा पायेगा
बस सपने ही
देखता रह जायेगा

आज्ञा दें यशोदा को

 पाठकों की पसंद अंक हेतु 

रचनाओं के लिंक्स आमंत्रित है





7 टिप्‍पणियां:

  1. सुबह सुबह यह सुंदर संकलन खुशी से सराबोर कर गई ।

    शुक्रिया मेरी रचना शामिल करने लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर व सार्थक संकलन !आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज के सुन्दर सूत्रों में 'उलूक' के सूत्र को जगह देने के लिये आभार यशोदा जी। बढ़िया प्रस्तुति हलचल की।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर संकलन हलचल का। शुक्रिया मेरी रचना को हलचल मर शामिल करने के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन संकलन धन्यवाद मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही उम्दा संकलन...।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...