पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 6 मई 2017

659... स्त्री




सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष



"सहने की सीमा से शासन शुरू"
बात केवल शासन की कर रही हूँ



मैं स्त्री कभी अपनों ने
कभी परायों ने
कभी अजनबी सायों ने
तंग किया चलती राहों में



बहुत दराज़ फ़साना है ये कुछ रोग होते हैं लाइलाज़
इक ज़ख्म खा के जाना है ये
गीत विरह का उम्र भर ही
हमको बस अब गाना है ये



रूठना मनाना हमको आता है हक से, पर वो मानते नहीं हमसे ||
करो ना गुरूर इतना भी हम से, हम जो चले गए फरियाद करोगे रब से |
आज जो पल मिले जी लो खुशी से , कल ना कहना मिले नहीं हंसी से ||
मनाने रुठने के तजुर्बे हैं ता उम्र से, है यही दुआ ना रुठे जिंदगी ये हमसे |



किसी के इतने पास न जा मुझे धोखेबाज़ मत समझना!! 
हमें उस दिन उमैर भाई ने एक साथ देख लिया था! 
उन्होंने मुझसे मुलाकात की ,पसंद भी किया !!
 मगर वादा ले लिया कि तुम्हे ना बताऊँ !!
 मुझे वादे का पास रखना था! 
उन्होंने मुझे कोल्ड ड्रिंक में ज़हर दे दिया !
 मर रहा हूँ ! 
शायद तुम्हारे घर में ही गाड़ दिया जाऊँ


तीन दीवारों का कमरा  रैन बसेरा वाली रातों का ठिकाना
रातें जो आधी अंजान गलियारों में कटती हैं
और शरणार्थियों की अमर बस्ती
वहशत-ए-दिल का एक ठौर
आवारा अँधेरा और बस एक रोशनी
किरणों के धागे से बुनी दुआ की चादर
जो चढ़ती है शहर पर हर जुम्मे
और सीढ़ी दर सीढ़ी उतरती वो आवाज़



फिर मिलेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव






8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    लाजवाब प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर सूत्र बढ़िया प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. रोचक एवं सुंदर संकलन आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुभ प्रभात बड़ी दीदी
    सादर नमन
    अच्छी प्रस्तुति..
    आभार...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...