पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 4 मई 2017

657....बावरे लिखने से पहले कलम पत्थर पर घिसने चले जाते हैं

हिन्दू, हिन्दू बने रहें
मुसलमान बने रहें मुसलमान
क्योंकि इंसान बनने में
धर्म नष्ट होता है श्रीमान।
सादर अभिवादन..
आज की पसंदीदा रचनाओं पर आपकी नज़र...

स्वर्ण किरण के 
तारों से नित बुनी 
सुनहरी धूप की चादर
तुम्हें नमन हे भुवन भास्कर !


फिर खिला है अमलतास.....रश्मि शर्मा
फिर खिला है
अमलतास
सूनी दोपहर
घर है उदास
पीले गजरे
झूम रहे कंचन वृक्ष में


याद आता है ख़ूब वो गांव का मकान
वो खुली सी ज़मीन वो खुला आसमान
वो बड़ा सा आंगन और ऊंचा रोशनदान
वो ईंटों का छत और पतंगों की उड़ान

टूट कर बिखरे सपने 
पड़े हैं एक कोने मे , 
आज उन्हें 
सिसकने की भी 
इज़ाज़त नहीं , 

खामोश निगाहें
और लरजते होंठ
जैसे बन्द किताब कोई
फड़फड़ाती हो कोने से

बावरे की कलम 
बेजान जरूर होती है 
पर लिखने पर आती है 
तो बावरे की तरह ही 
बावरी हो जाती है 
बावरों की दुनियाँ 
के बावरेपन को 
बावरे ही समझ पाते हैं 
जो बावरे नहीं होते हैं 
उनको कलम से 
कुछ लेना देना 
नहीं होता है 
जो भी लिखवाते हैं 
दिमाग से लिखवाते हैं

आज्ञा दें दिग्विजय को
सादर






6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    लाजवाब प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर लिनक्स आज की हलचल में ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से आभार दिग्विजय जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति। आभार दिग्विजय जी बावरे 'उलूक' के सूत्र को भी जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...