पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 3 मई 2017

656....सलाम ऊपर वाले को वो अपनी वस्तु वापस लेने में माहिर है

सलाम ऊपर वाले को
वो अपनी वस्तु वापस लेने में माहिर है
और देता भी है छप्पर फाड़ के 
श्रीमद् भगवदगीता में सही लिखा है
क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? 
किससे व्यर्थ डरते हो? 
कौन तुम्हें मार सकता है? 
आत्मा ना पैदा होती है,  
न मरती है।
तुम्हारा क्या गया, 
जो तुम रोते हो? 
तुम क्या लाए थे, 
जो तुमने खो दिया? 
तुमने क्या पैदा किया था, 
जो नाश हो गया?  
न तुम कुछ लेकर आए, 
जो लिया यहीं से लिया। 
जो दिया, यहीं पर दिया। 
जो लिया, इसी (भगवान) से लिया। 
जो दिया, इसी को दिया।

काम तो करना ही है..सो कर करो ..या फिर रो कर करो
बदलाव नियम है..प्रकृति का..हम इससे अलग नहीं है
थोड़े से अव्यवस्थित रहेंगे हम..सहयोग के आकांक्षी है..
कुछ दिनों के लिए या फिर हरदम के लिए..
हम अपने पाठकों के पसंद के पाँच लिंक यहां उनके नाम के साथ प्रकाशित करने की योजना है ..और लागू कर रही हूँ..
प्रत्येक रविवार व गुरुवार को वे लिंक यहा सुशोभित होंगे...
आप यहां पर लगे सम्पर्क फार्म से वे लिंक हम तक पहुँचा सकते हैं..

आज की रचनाओं पर एक दृष्टि...

हम आए अकेले, इस दुनियां में,
न लाए साथ कुछ दुनियां में,
शख्स ही रहे तो मर जाएंगे,
बनो शख्सियत इस दुनियां में।
जो भी मन में प्रश्न हैं,
उनका उत्तर गीता में पाओ,
जब ज्ञान दिया खुद ईश्वर ने,
क्यों भटक रहे हो दुनियां में।



सुबह-सुबह न रात-अंधेरे घर में कोई डर लगता है
बस्ती में दिन में भी उसको अंजाना सा डर लगता है

जंगल पर्वत दश्त समंदर बहुत वीराने घूम चुका है
सदा अकेला ही रहता, हो साथ कोई तो डर लगता है

आज मज़दूर दिवस है... 
यानी हमारा दिन... 
हम भी तो मज़दूर ही हैं... 
हमें अपने मज़दूर होने पर फ़ख़्र है... 
हमारे काम के घंटे तय नहीं हैं.... 
सुबह से लेकर देर रात तक कितने ही काम करने पड़ते हैं... 
यह बात अलग है कि हमारा काम लिखने-पढ़ने का है... 
इसके अलावा हम घर का काम भी कर लेते हैं...

रुखड़े से मेरे मन की पहाड़ी पर,
तप्त शिलाओं के मध्य,
सूखी सी बंजर जमीन पर,
आशाओं के सपने मन में संजोए,
धीरे-धीरे पनप रहा,
कोमल सा इक श्वेत तृण..

आँखों के समंदर में
विश्वास कीगहराई से
बन जाते हैं
रिश्तों के पुल





6 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...