पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 2 मई 2017

655....चिट्ठी न कोई संदेश....जहां तुम चले गए

अभिवादन

अत्यन्त दुख के साथ सूचित कर रहा हूँ
भाई कुलदीप जी के पिता श्री का निधन 
दिनांक 30 अप्रैल 2017 को हो गया
उन्हें मैं अश्रुपूरित श्रद्धांजली अर्पित करता हूँ 
एवं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ
कि शोक संतप्त भाई कुलदीप व परिवार को 
इस असीम दुःख को सहने क्षमता प्रदान करे


पिता....अशोक बाजपेई
इस भोग वाले 
संसार में
बिना भोगे
चले गए एक दिन पिता

धूँ धूँ करती चिता के
धुएँ में विलीन होती है
उनकी छवि
जो मिटाए नहीं मिटती

पिता....विष्णु विराट
मौन हुए तो लगा कि मीलों-मीलों रोए हैं,
शरशैया पर जैसे भीष्म पितामह सोए हैं,
राजा शिवि की देह हडि्डयों में दधीचि बैठा
दिए-दिए ही किए अंत तक कुछ ना लिए पिता।

हमसे मत पूछिए, चिता आँखों में जलती है
हमसे मत पूछिए हमारी जान निकलती है
हमसे मत पूछिए कलेजा कैसे फटता है
बिना तुम्हारे फटे कलेजे किसने सिए पिता।

पिता....राजेन्द्र अविरल
जब जन्म लिया था मैंने 
खोए थे, जीवन के झंझावातों में तुम।

जब उठाया बाहों में तुमने मुझे
सुंदर भविष्य के लिए मेरे,
कठोरतम श्रम का 
व्रत ले रहे थे तुम।

पिता......रमेशचंद्र शर्मा 'आरसी'
रहे सदा जीवनभर जग में, तुम मेरी पहचान पिता,
कहाँ चुका पातीं जीवनभर,इस ऋण को संतान पिता।

चले तुम्हारी अंगुली थामे, हम पथरीली राहों पर, 
बिना तुम्हारे वो सब रस्ते, रह जाते अनजान पिता।

पिता.....त्रिलोक सिंह ठकुरेला
पिता ! आप विस्तृत नभ जैसे,
मैं निःशब्द भला क्या बोलूं.

देख मेरे जीवन में आतप,
बने सघन मेघों की छाया.
ढाढस के फूलों से जब तब,
मेरे मन का बाग़ सजाया.



आज का यह संक्षिप्त अंक स्मृतिशेष पिताजी को समर्पित करता हूँ

हरि ओम शान्ति

12 टिप्‍पणियां:

  1. अपूरणीय क्षति
    निःशब्द श्रद्धा सुमन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुखद।
    ईश्वर दिवंगत आत्मा को सद्गति प्रदान करें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिवंगत आत्मा हेतु मेरी भीनी श्रद्धांजलि एवः शोक संतप्त परिवार हेतु संवेदना ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हार्दिक श्रद्धांजलि ! ईश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें एवं कुलदीप भाई व् परिवार के एनी सदस्यों को यह दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करें यही प्रार्थना है ! /\

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावभीनी श्रद्धाजलि दिवगंत आत्मा के चरणों में,कुलदीप जी एवम् समस्त परिवार को इस दुख को सहन कर पाने की शक्ति ईश्वर प्रदान करे।🙏🙏

    उत्तर देंहटाएं
  6. दुख:द समाचार। ईश्वर दिवंगत की आत्मा को शान्ति प्रदान करे और कुलदीप जी और परिवार को इस कठिन घड़ी से उबरने की शक्ति भी दे । ऊँ शान्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. पिता रूपी चिरस्थाई वृक्ष जो सदैव अपने बच्चों को दुनिया के दुःखों से सुरक्षित करता है उस अजेय मानव को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। दिवंगत आत्मा को परमात्मा शांति प्रदान करे।

    उत्तर देंहटाएं
  8. जानकर अत्यंत दुःख हुआ कि कुलदीप जी के पिताश्री अब इस लौकिक संसार में नहीं रहे | किन्तु उनका रागात्मक जीवन अमर है , उनकी स्मृतियाँ अजर हैं | इसी अमरत्व के सहारे अब उनका परिवार उन्हें सहेजे रखे साथ ही इस विछोह की घडी में ईश्वर परिवार को धैर्य प्रदान करे साथ ही पिताश्री के आत्म-स्वरूप को संसार के आवागमन से मुक्ति दे , इन्हीं शब्दों के साथ उन्हें आत्मिक श्रद्धांजलि |

    उत्तर देंहटाएं
  9. भाई कुलदीप के पिताजी के निधन का समाचार जानकर अत्यंत दुःख हुआ। ईश्वर से प्रार्थना है की वे दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान कर अपने चरणों में स्थान देते हुए परिवार के सदस्यों को इस गहन दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करें!
    हार्दिक श्रद्धांजलि सहित

    उत्तर देंहटाएं
  10. दुखद समाचार | भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे |

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत दुखद समाचार। भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और कुलदीप जी एवं उनके परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करे।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...