पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 1 मई 2017

654....क्या किया जाये अगर कभी मेंढक बरसात से पहले याद आ जाते हैं

आज विश्व मज़दूर दिवस है
आज एक दिन के लिए
मज़दूरों के सिहासन पर बिठलाया जाता है
विकास की इमारत में
किसी मजदूर का खून
पसीना बनकर बह रहा है,
वह फिर भी गरीब है
उसका अभाव
पुराने शोषण की 
पुरानी कहानी कह रहा है।
फिर भी....
मजदूर दिवस की शुभकामनाएँ

आज की रचनाओ पर एक नज़र.....

कभी बन कर 
कोल्हू के बैल 
घूमते रहे गोल-गोल 
ख्वाबों में रही 
हरी-भरी घास 
बंधी रही आस 
होते रहे चूर-चूर 
सबके करीब 
सबसे दूर 
मजदूर! 


रीती गागर 
गहरा सरवर
रीता अंतर 

ई जे लउकत बा, इंडिया ह इ
अउर हिंदोस्तान  गायब बा

खांसि के टिमटिमा रहल बा दीया
नीन गायब निदान गायब बा।


अचिन्हित तट....पुरुषोत्तम सिन्हा
निश्छल, निष्काम, मृदुल, सजल तेरी ये नजर,
विरान फिर भी क्यूँ तेरा ये तट?
सजदा करने कोई, फिर क्यूँ न आता तेरे तट?
बिन पूजा के सूना क्यूँ, तेरा मंदिर सा ये निर्मल तट?


जमाना जाने क्या समझे...आशा ढौंडियाल
शेर लिखो,ग़ज़ल या कलाम लिखो
ख़ुद ही पढ़ो, ख़ुद ही दाद भी दो
ख़ुद ही ढूँढो ख़ामियाँ बनावट में
ख़ुद ही तारीफ़ के अल्फ़ाज़ कहो
क्यूँकि ज़माना ना जाने क्या समझे?


रविकर के दोहे.....रविकर 
सच्चाई परनारि सी, मन को रही लुभाय।
किन्तु झूठ के साथ तन, धूनी रहा रमाय।।

सच्चाई वेश्या बनी, ग्राहक रही लुभाय।
लेकिन गुण-ग्राहक कई, सके नहीं अपनाय।।

बात सोचने की....डॉ. सुशील कुमार जोशी
कूँऐं के अंदर से 
चिल्लाने वाले 
मेढक की 
आवाज से परेशान 
क्यों होता है 
उसको आदत होती है 
शोर मचाने की 
उसकी तरह का 
कोई दूसरा मेंढक 
हो सकता है 
वहाँ नहीं हो 
जो समझा सके उसको 
दुनिया गोल है और 
बहुत विस्तार है उसका 

आज्ञा दें यशोदा को
सादर..













5 टिप्‍पणियां:

  1. आज तो सजदा किए जाता है ये मन इस तट....

    सुन्दर संकलन।।।। सादर धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति हमेशा की तरह । आभार यशोदा जी 'उलूक' के मेंढक को जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. धन्यवाद ज्ञापन में विलम्ब के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ यशोदा जी ! आज आपने बहुत ही सुन्दर लिन्क्स का चयन किया है ! मेरी प्रस्तुति को भी स्थान देने के लिए आपका हृदय तल से धन्यवाद एवं आभार !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...