पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 22 अप्रैल 2017

645 The first Earth Day – April 22, 1970





Related image



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

भाषण देते सुनते मेरी पीढ़ी गुजर रही
सहना ना पड़े पीड़ा नई पीढ़ी सुधर रही






पृथ्वी संरक्षण पर बच्चों ने लिया संकल्प; 
स्वर्ण स्कूल ने मनाया विश्व पृथ्वी दिवस; 
जागरूकता रैली व प्रतियोगिताओं द्वारा किया जागरूक; 
पृथ्वी विषय कविताएं भी सुनाई छात्रों ने






आप कभी यह नहीं सोचते, 
‘इस छोटी उंगली को काटकर फेंक दो’। 
अगर आप वाकई हर चीज को 
खुद में शामिल करना चाहते हैं, तो
 आपको सीखना चाहिए कि सभी चीजों को 
एक नजर से कैसे देखें। आपको इस बात के 
प्रति जागरूक होना चाहिए। यह बहुत अहम है।






महानगरेषु वाहनानां निर्बाध-प्रचलनेन
ध्वनि-प्रसारयन्त्र-विज्ञापनेन नूतनयन्त्राणां 
निनादेन कर्णस्फोटकध्वनिः रात्रिदिवं 
समुत्पद्यते तेन मानवस्य मनःशान्ति-विलुप्ता 
जनाः अनिद्रारोगेण विक्षिप्ताः इव सन्ति ।





हूँ उगा मैं मिट्टी से, फिर भी नभ को चूमता,
वर्षा की झंकार सुन, मदमस्त हो के झूमता,
वन के पृष्ठ पर हरे रत्न-सा मैं हूँ जड़ा,
क्या महान कर रहा तू वहाँ पड़ा-पड़ा?









Image result for अर्थ डे पर कविता

Related image




फिर मिलेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव





6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    दीदी को सादर नमन
    पृथ्वी दिवस पर शुभ कामनाएँ
    सम-सामयिक प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। पृथ्वी दिवस की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया सामयिक हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. पृथ्वी दिवस पर बढ़िया प्रस्तुति👌👌

    उत्तर देंहटाएं
  5. विश्व पृथ्वी दिवस पर "पाँच लिंकों का आनंद " की विशेष प्रस्तुति सराहनीय है। जन जागरण के लिए चयनित लिंक्स भी अपनी -अपनी विशेषता लिए हुए हैं। चित्रावली ध्यान आकृष्ट करने में सक्षम है। ज़रूर हम इस प्रस्तुति की व्यावहारिकता को आत्मसात करेंगे। हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...