पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 29 मार्च 2017

621...अंत:विषय दृष्टिकोण क्या तुमको नहीं आता है

सादर अभिवादन
नव वर्ष की शुभकामनाएँ
हम शहर से बाहर हैं आज भी
सोचा, भाई कुलदीप जी को फोन कर दिया जाए
पर देवी जी लैपटॉप हाथ में देकर यह इशारा कर चली गई
मुझे तीन घण्टे लग जाएँगे..तब तक आप टॉईम पास कीजिए

सो...टॉईम पास की उपलब्धियाँ.....
अब नहीं होती उसकी आँखे नम जब मिलते हैं अपने
अब नहीं भीगतीं उसकी पलके देखकर टूटते सपने।

अब नहीं छूटती उसकी रुलाई किसी से उल्हानों से
अब नहीं मरती उसकी भूख किसी के भी तानो से।

उभरती हैं कुछ डूबती यादें, 
संग ए साहिल की तरह, 
कुछ उजले - उजले से हैं, 
भूले - बिसरे चेहरे, 
कुछ मद्धम - मद्धम , 
मीठे दर्द ए दिल की तरह। 

आदित्यनाथ ने सचमुच ‘योगी’ की तरह सरकार चला दी तो ???
आखिर एक योगी भ्रष्ट राजनीति और राजनेताओं की कतार में बैठना क्यूँ पसंद करेगा? राजनीति को रामनीति बनाकर योगी ही प्रदेश, देश की दिशा बदल सकता है. योगी आदित्यनाथ ऐसा कर पाएँगे, ये उम्मीद रखी जा सकती है, क्योंकि सत्ता में आने के दिन से ही योगी आदित्यनाथ ने अपनी सकारात्मक सोच को क्रियान्वित करना शुरू कर दिया है !

बहुत ही करीब से गुजर रही थी जिंदगी,
कितना कोलाहल था उस पल में,
मगर बेखबर हर कोलाहल से था वो पथिक,
धुन बस एक ही ! अपने मंजिल तक पहुचने की!


आज खुद को गले
लगा कर सोने को
जी करता है ,
अपने कंधे पर
सर रख कर
रोने को
जी करता  है ,

बस थोड़ी देर और ये नज़ारा रहेगा
कुछ पल और धूप का किनारा रहेगा

हो जाएँगे आकाश के कोर सुनहरे लाल
परिंदों की खामोशी शाम का इशारा रहेगा

सबसे विकराल प्रश्न जो उसके नन्हे से मस्तिष्क को विचलित कर रहा था वह यही था कि इतने बड़े संसार में अपनी अबोध बहन के साथ वह जीवित कैसे रहेगा !


इसमें वो 
बिल्कुल भी 
नहीं किया 
जाता है
तुमको अच्छी 
तरह से 
जो आता है 
और दूसरा 
उसको 
अच्छी तरह 
से समझ 
जाता है 
...
चलिए दोनों का काम हो गया...
करें वापसी सफर की तैय्यारी
आज्ञा है न दिग्विजय को
सादर





10 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर प्रस्तुतीकरण
    रब हमेशा सब ठीक रखे

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर । यह यात्रा यूँ ही जारी रहे। मेरी कविता को शामिल करने के लिए शुक्रिया । आप सभी मेरे ब्लॉग purushottamjeevankalash.blogspot.com पर भी आमंत्रित हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर संकलन है। मेरी रचना शामिल करने के लिए हृदय से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज की हलचल में खूबसूरत सूत्रों का खुशबूदार गुलदस्ता ! मेरी लघु कथा को शामिल करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार दिग्विजय जी !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वापसी के सफर के लिये फिर मंगलकामनाएं। आज के निखरे हुए अंक में 'उलूक' के सूत्र की चर्चा करने के लिये आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभप्रभात... सुंदर संकलन...
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही मायने में समय का सदुपयोग किया है आपने
    आभार...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    सबको गुड़ी पड़वा- चैत्र शुक्ल प्रतिपदा की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. पठनीय संकलन।मेरे लेख को शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...