पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 16 फ़रवरी 2017

580....हर कोई हर बात को हर जगह नहीं कहता है इसी दुनियाँ में बहुतों के साथ बहुत कुछ होता है

सादर अभिवादन
पाश्चात्य उत्सव बीत गया
खुमार बाकी है

वो भी चला जाएगा
चलिए आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर...

हमारे समाज एक कहावत है "शादी वो लड्डू है जो नहीं खाता वो भी पछताता है जो खाता है वो भी पछताता है'" तो ख़ैर "अब पछताए होत क्या जब चिड़ियाँ चुग गई खेत" शादी करें तो इन बातों भी ख्याल रक्खें- जब तक शादी नहीं होती है आप किसी दोस्त के घर जाएँ तो अगर उसके घर में कोई जवान बहन इत्यादि है तो आपको अंदर आने को नहीं कहता डरकर वो बेचारा आपको बाहर से ही निपटा देता है


फगुआ पैठ गया मन में...........रश्मि शर्मा
फगुनौटी बौछारों में
पछुवा बनी सहेली जैसी
तन सिहरन पहेली जैसी 
और फगुवा पैठ गया ,
मन वीणा के तारों में ।।



ठिठकी भीड़
कुम्हार चाक देख
पुस्तक मेला
रो रहा प्रकाशक
स्व स्टॉल खाली पाया



मनुहार....आशा सक्सेना
करना है प्यार का इज़हार
मनाना है उसे दस बार
धीरे धीरे कर मनुहार
न कि कर  प्रतिकार |




सच्चा प्यार क्या होता है.....बबीता सिंह
सच्चा प्यार एक एहसास है | सच्चा प्यार कुदरत का दिया हुआ एक ऐसा नायाब तोहफा है जिसे शब्दों में बाधा नहीं जा सकता | सच्चा प्यार एक वरदान है जो जीवन में उमंग और उल्लास के हर रंग भर देता है | प्यार करने वाले अपने प्यार की आंखों में ही जिंदगी के सारे रंग देख लेते है | उसमें ही कायनात की सारी खूबसूरती तलाश लेते है |



चाय बना कर टेलीविजन ऑन किया, न्यूज का जो सीन मेरी आँखों के सामने था उसे देखकर हाथ में आ गयी मेज को अगर कस कर पकड ना लिया होता तो चक्कर खा कर गिर ही जाती। बीच बाजार में दो लोगों ने, पुलिस वालों की मौजूदगी में एक महिला का सरेआम कत्ल कर दिया था। न्यूज वाले बता रहे थे, उस पर अपने गर्भ में पल रही लडकी को मारने का इल्जाम था। और इसी कत्ल की उसे सजा दी गयी थी।

बस यहीं से 
अपेक्षाओं के महल 
का निर्माण करना 
शुरु हो जाते हैं 
पालतू बन कर 
कुत्ता जो पल 
रहा होता है 
उसे कुछ भी 
नहीं बताते है 
ऐसे में कैसे 
उससे वफादारी 
की उम्मीद पालने 
वाले लोग सोचते 
सोचते ही कर 
ले जाते है 










7 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी रचना "सच्चा प्यार क्या होता है" को सम्मिलित करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद । हलचल में सम्मिलित आज की सभी रचनाओं को पढकर बहुत अच्छा लगा । इतनी अच्छी रचनाओं को शेयर करने के लिए एक बार फिर से धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं के संग शुभ दिवस छोटी बहना
    आभारी हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब लिंक्स |
    मेरी रचना चामिल करने के लिए धन्यवाद यशोदा जी |

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज की सुन्दर प्रस्तुति में 'उलूक' की बड़बड़ को शीर्षक पर जगह देने के लिये आभार यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर हलचल। मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर प्रस्तुति बहुत आनंद आया आज की प्रत्येक रचना पढ़कर बहुत बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...