पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 13 फ़रवरी 2017

577..बुखार कैसा भी हो निकलता ही है कुछ बाहर बुदबुदाने में


सादर अभिवादन
प्रेम का आनंद
असम्भव है ये बताना
और ये भी असम्भव है
बताना कि क्या है प्रेम
बस 
अनुभव किया जा सकता है
प्रेम को...
कल चौदह फरवरी को
पाश्चात्य प्रेम दिवस मनाया जाएगा
अपने हिन्दुस्तान में
पक्ष-विपक्ष ने भी पूरी तैय्यारी कर रक्खी है

चलिए जायजा लेते हैं...

पहली बार...
हायकु... सविता मिश्रा
प्रेम का भाव
समझ के पराये
हुए अपने |




दोनों ने
किया था वादा
हमेशा साथ साथ चलने का,
फिर
मैंने किया भरोसा
और चलती रही आंखें मूंदे
प्रेम के अंधत्व में,

रात गुज़र जाएगी....धीरेन्द्र अस्थाना
सितमगर तेरा हरेक सितम,
मेहरबानी से बढ़कर है मेरे लिए;
ठहर गया जो लम्हा, सौगात गुज़र जाएगी!


"प्यार है पवित्र पुंज ,प्यार पुण्य धाम है.
पुण्य धाम जिसमे कि राधिका है श्याम  है .
श्याम की मुरलिया की हर गूँज प्यार है.
प्यार कर्म प्यार धर्म प्यार प्रभु नाम है."

वृद्धाश्रम‌.......प्रभुदयाल श्रीवास्तव
दुर्बल-निर्बल जेठे-स्याने,
वृद्धाश्रम में रहते क्यों हैं?
दूर हुए क्यों परिवारों से,
दु:ख तकलीफें सहते क्यों हैं?


गुड़ खाने के स्वास्थ लाभ...सुशील बाकलीवाल
खाना खाने के बाद अक्सर मीठा खाने का मन करता है, इसके लिए सबसे बेहतर है कि आप गुड़ खाएं । गुड़ का सेवन करने से आप हेल्दी बने रह सकते हैं । जानिये गुड आपको कौन-कौनसे स्वास्थ लाभ देता है





बात पते की...
चल तैयार 
हो ले तू भी 
‘उलूक’ 
लगाने 
स्याही 
कहीं 
थोड़ी सी 
अपने भी 
गवाही देगें
सुना हैं 

दें इज़ाज़त यशोदा को
सादर








9 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा लिंक्स चयन
    ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं के संग शुभ दिवस छोटी बहना 🌹

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। आभार यशोदा जी 'उलूक' के सूत्र 'बुखार कैसा भी हो निकलता ही है कुछ बाहर बुदबुदाने में' को शीर्षक पर जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज की चुनिंदा प्रस्तुतियों में मेरी प्रस्तुति गुड के स्वास्थ्य लाभ को भी शामिल करने हेतु आभार सहित...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर हलचल प्रस्तुति | हमारे हायकु को स्थान देने के लिए आभार |
    सादर |

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...