पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 7 फ़रवरी 2017

571...टूट जाये पत्थर ऐसा शीशा तलाश करो

जय मां हाटेशवरी...

आज कल टीवी पर तो...
जन-सभाओं की ही चर्चा है...
पर जन-सभाओं में विकास की बात नहीं होती...
केवल बकबास होती है...
मैं तो यही सोचता हूं....
क्या भाषण देने वाले  जनता को पागल समझते हैं...
या वे खुद बेवकूफ हैं...
बेहतर से बेहतर कि तलाश करो
मिल जाये नदी तो समंदर कि तलाश करो
टूट जाता है शीशा पत्थर कि चोट से
टूट जाये पत्थर ऐसा शीशा तलाश करो
ब्लौग पर बहुत कुछ नया लिखा गया है...


मैं सोचती हूँ आजकल कई बार. आप आज किस खेमे में होते ? राष्ट्रवादी या प्रगतिशील ? क्योंकि आप तो
परम्पराओं के भी समर्थक थे और प्रगतिशीलता के भी. कितना मुश्किल होता न आपके लिए आज का यह माहौल? या नहीं शायद। आप तो कह देते कि 'क्या फ़ालतू सोचते रहते हो
तुम लोग. अपना काम करो और बाकियों को अपना करने दो. बाकि सब ऊपर वाले पर छोड़ दो'. नेगिटिविटी आपके शब्दकोष में है ही नहीं न.
 

अँधेरों से जब मैं उजालों की जानिब
बढा़, शम्मा तब ही बुझा दी गई थी।
मुझे तोड़ कर फिर से जोडा़ गया था,
मेरी हैसियत यूं बता दी गई थी।
सफर काटकर जब मैं लौटा तो पाया,
मेरी शख्सियत ही भुला दी गई थी।
गुनहगार अब भी बचे फिर रहे हैं,
तो सोचो किसे फिर सज़ा दी गयी थी।

बेजान फिरता हूँ इन ईमारतों के जंगल में
बचपन की गलियों से गुजरते ज़िंदा होता हूँ।।
कुछ तो मज़बूरी है जीने में "शादाब"
अपनी ही ख़ुशी के गले का फन्दा होता हूँ।।
1- जल तत्व(कनिष्ठा)और अग्नि तत्व(अंगूठे)को एकसाथ मिलाने से शरीर में आश्चर्यजनक परिवर्तन होता है इससे साधक के कार्यों में निरंतरता का संचार होता है-
2- वरुण मुद्रा शरीर के जल तत्व सन्तुलित कर जल की कमी से होने वाले समस्त रोगों को नष्ट करती है तथा वरुण मुद्रा स्नायुओं के दर्द, आंतों की सूजन में लाभकारी
है-
3- जिन लोगों को अधिक पसीना आने की समस्या है इस मुद्रा के अभ्यास से शरीर से अत्यधिक पसीना आना समाप्त हो जाता है-
4- वरुण मुद्रा के नियमित अभ्यास से आपके शरीर का रक्त शुद्ध होता है एवं त्वचा रोग व शरीर का रूखापन भी नष्ट होता है-

         
इस बार मेरी पत्नी ने कुछ नहीं कहा, चुपचाप अपना पर्स खोला, पिस्तौल निकाली और उस घोड़े को गोली मार दी ।
          मुझे ये देखकर बहुत गुस्सा आया और मैं जोर से पत्नी पर चिल्लाया - "ये तुमने क्या किया,  पागल हो गयी हो क्या ?"
          तब पत्नी ने मेरी तरफ़ देखा और कहा - "ये पहली बार है" ।
          और बस उसके बाद से हमारी ज़िंदगी सुख और शांति से चल रही है ।

अब जब हम मिलते हैं
पूछ लेते हैं हाल चाल
घर-बार के
रिश्ते परिवार के
लेकिन अब
कहाँ पूछते हो तुम
और कहाँ कहती हूँ मैं
हाल मेरे मन के
अब जब हम मिलते हैं
प्यार नहीं
औपचारिकताएं निभाते हैं.......

-तुम्हें तो एक दिन सिगरेट मैं ही पीना सीखाउंगा।
क्यों, यह बुरी चीज है इसलिए?
-नहीं, मुझे सिर्फ यही एक चीज पता है इसलिए। मैं इस बात में बेहद यकीन रखता हूं कि कोई इंसान जब किसी से कोई चीज सीखता है तो वह उसे ताउम्र याद रखता है।
ये लाइफ टाइम गिफ्ट होगा मेरा तुम्हारे लिए।


अब अंत में
इस गीत के भाव भी समझिये...

अब मुझको ये है करना, अब मुझे वो करना है
आख़िर क्यूँ मैं ना जानूँ, क्या है कि जो करना है
लगता है अब जो सीधा, कल मुझे लगेगा उल्टा
देखो ना मैं हूँ जैसे, बिल्कुल उल्टा-पुल्टा
बदलूँगा मैं अभी क्या
मानूँ तो क्या मानूँ मैं
सुधारूँगा मैं कभी क्या
ये भी तो ना जानूँ मैं


धन्यवाद।




9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    टूट जाए पत्थर
    ऐसा शीशा तलाश करो
    सुन्दर अग्रलेख
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. लिंक उत्तम..
    शीर्षक सर्वोत्तम..

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. We are self publishing company, we provide all type of self publishing,prinitng and marketing services, if you are interested in book publishing please send your abstract

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब जब हम मिलते हैं
    पूछ लेते हैं हाल चाल...

    बहुत सुंदर। रिश्तों के सतहीपन को दिखाती सहज सरल सुन्दर कविता। वाह वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी चर्चा है जी !धन्यवाद आपका मेरी रचना प्रकाशित करने हेतु !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर पोस्ट ............. आभार
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...