पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 25 जनवरी 2017

558.........सब कुछ जायज है अखबार के समाचार के लिये जैसे होता है प्यार के लिये

भारतीय गणतंत्र दिवस के एक दिन पहले ही
ऐसा लगता है कि साल अब शुरू होगा नया
घोषणाएँ होंगी कुछ नयी, होगी वादा खिलाफी भी
सुनिए भी, देखिये भी, और आलोचना भी कीजिए

आइए चलें आज की पसंदीदा रचनाएं देखें....


अजनबी आवाज़.....रेवा
इतने सालों के साथ 
और प्यार के बाद , 
आज एक अजीब सी 
हिचकिचाहट 
महसूस हो रही है , 



बहस से
मन नहीं उबरता  ...
बहस
दूसरे लोग करते हैं
पक्ष-विपक्ष से बिल्कुल अलग-थलग
हादसे से गुजरी मनःस्थिति
जुड़कर भी
नहीं जुड़ती !

जाड़ा! तू जा न -  
करती है मिन्नतें, 
काँपती हवा!  

रवि से डरा  
दुम दबा के भागा  
अबकी जाड़ा

कैसे जियें हम तुम्हारे बिन देखे हमे ज़माना
है करते इंतज़ार तेरा पिया घर चले आना
,
सूना सूना अँगना साजन रस्ता  निहारे नैना 
आँखों से अब  बरसे सावन दिल हुआ दिवाना


बेगैरत सूरज भी साम्प्रदायिकता फैलाता है ,,
इसे भी उगते .. डूबते हुए केसरिया रंग भाता है ||

चाँद को समझाया कितना सुनता ही नहीं है 
कौन धर्म में त्यौहार पर कभी पूर्णिमा मनाता है ||

"पानी पी लूँ?" उसने विनम्रता से पूछा।
"पानी के लिए पूछते हैं! पीने के लिए ही तो रखा है। जरूर पीजिए!" कहते हुए वे थोड़ा गर्व से भर गये।

आज का आनन्द...

समाचार देने वाला भी 
कभी कभी खुद एक 
समाचार हो जाता है 
उसका ही अखबार 
उसकी खबर एक लेकर 
जब चला आता है 
पढ़ने वाले ने तो 
बस पढ़ना होता है 
उसके बाद बहस का 
एक मुद्दा हो जाता है 

आभा दें यशोदा को


भारतीय गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ

6 टिप्‍पणियां:

  1. धन्यवाद हलचल के सभी सहभागियों का इतना बेहतरीन और उम्दा लेख प्रस्तुत करने के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात सुंदर रचनाओं का संगम आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं के संग शुभ दिवस छोटी बहना
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    सभी को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया 558वीं प्रस्तुति यशोदा जी । आभारी है 'उलूक' अखबार के एक पन्ने को दिखाने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...