पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 21 जनवरी 2017

554 .... कोठागोई



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


भूख के आगे बेदम तन के मन को भभोरता साहूकार
भूख के आगे बेदम मन के तन को भभोरता साहूकार
भूख के आगे बेदम कोठी को कोठा बनाता चाटूकार
भूख के आगे बेदम कोठा को कोठी ले आता चाटूकार






"पढ़ कर आगे जाना है,
अपना दाग मिटाना ह,ै
रोक  नहीं पाएंगे अब कोई-
आया नया जमाना है"






 कृष्ण से अपनी चर्चा शुरू करना चाहूँगा?
आम परिभाषा से तो कृष्ण से ज्यादा चरित्रहीन कोई होना ही नहीं चाहिए था! पर उन्हें तो सम्पूर्ण पुरुष, जगत गुरु कहा गया. शादी शुदा राधा से उनका प्यार? हजारों गोपियों के संग उनका रास? अर्जुन को नरसंहार लिए तैयार करना? 








अतः शान्तियुक्त, ज्ञानवान, विज्ञानवान और समृद्धियुक्त भारतवर्ष व् विश्व के लिए चरित्रयुक्त ज्ञानवान, मानवतायुक्त विज्ञानवान तथा नैतिक व् पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाने वाले व्यवसायी व् गृहस्थ की संख्या में उत्तरोतर वृद्धि करनी है। 







मांग का सिंदूर हाथों में मेहंदी का चलन नहीं बदला ।
मां का ममतामई आंचल दूध का रंग नहीं बदला ।
बहन का प्यार वो राखी का बंधन नहीं बदला ।
बेटियां आगन का फूल बाप के कंधों का बोझ नहीं बदला ।
 घर के चिरागों की खातिर अजन्माओं की हत्या का
 सिलसिला नहीं बदला ।
व्रत रखें कोई सावित्री, सीता की अग्निपरीक्षा का
 मंजर नहीं बदला ।







 रपट के मुताबिक़ पहली कक्षा से आठवीं कक्षा एक बहुत बड़ा भाग दूसरी क्लास की किताबें ठीक से नहीं पढ़ सकता है. शिक्षा पर अलाभकारी संस्था “ प्रथम” की वार्षिक रपट के अनुसार विगत 10 वर्षों में बहुत कम बदलाव आये हैं, खास कर ग्रामीण शिक्षा में. गाँव के सरकारी तथा निजी  स्कूलों के पहली क्लास के क्षत्रों से लेकर आठवीं कक्षा के छात्र कक्षा दो की पथ्य पुस्तक को सही सही नहीं पढ़ सकते हैं और ना अपनी उम्र के अनुरूप गणित के प्रश्न हल कर सकते हैं.


Image result for शराबबंदी मानव श्रृंखला



<><>

फिर मिलेंगे  ....... तब तक के लिए

आखरी सलाम



विभा रानी श्रीवास्तव



5 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी
    शुभ प्रभात
    प्रस्तुति विशेष
    काबिले तारीफ
    धन्य हैं आप
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय आंटी...
    शुभदोपहर...
    आप की प्रस्तुति...
    हमेशा ही....
    अलग व विशेष होती है सब से...
    आभार आप का...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी कविता को हलचल पर जगह देंने के लिए.............. आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर हलचल । आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...