पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 19 जनवरी 2017

552...रात पहाड़ों पर कुछ और ही होती है

जय मां हाटेशवरी...

आज बरफीली हवाएं...
कंप्यूटर पर चलती उंगलियों को...
बार-बार रोक रही हैं...
पर मेरी उंगलियां...
रुकने वाली कहां...
ठंड और दिनों से ज्यादा है...
रात पहाड़ों पर कुछ और ही होती है
आस्मान बुझता ही नहीं
और दरिया रौशन रहता है
इतना ज़री का काम नज़र आता है फ़लक़ पे तारों का
जैसे रात में प्लेन से रौशन शहर दिखाई देते हैं
पास ही दरिया आँख पे काली पट्टी बाँध के
पेड़ों की झुरमुट में
कोड़ा जमाल शाही, "आई जुमेरात आई..पीछे देखे शामत आई
दौड़ दौड़ के खेलता है
कंघी रखके दाँतों में
आवाज़ किया करती है हवा
कुछ फटी फटी...झीनी झीनी
बालिग होते लड़कों की तरह !
इतना ऊँचा ऊँचा बोलते हैं दो झरने आपस में
जैसे एक देहात के दोस्त अचानक मिलकर वादी में
गाँव भर का पूछते हों..
नज़म भी आधी आँखें खोल के सोती है
रात पहाड़ों पर कुछ और ही होती है।---गुलजार
अब पेश हैं...
आज के लिये मेरी पसंद...


" मैं स्त्री ,, मेरा वजूद प्रश्न चिह्न है "
क्या कभी जिन्दगी जिन्दा सी मिलेगी ..
औरत को आजादी परिंदा सी मिलेगी ..
क्या कभी फूलो सी मुस्कान पाएगी ,,
सच बताना ,,जिन्दगी कभी अपने कदमों से माप पायेगी
क्या कभी इमानदारी से औरत अपना वजूद पाएगी ||  --------  विजयलक्ष्मी



तुम आओगे इक रोज
फिर न रहेंगी ये दूरियां भी
हमारे दरमियाँ
कि मैंने तन्हाईयों से तुम्हारे लिए
ये कलाम भेजा है -------
ANDROID MOBILE TOP 10 TIPS
2.Baar-Baar Mobile Hang Ho Toh Kya Karna Chahiye
list of 1 items
• Agar aap apne android mobile me kuch use kar rahe hai or baar baar aapka mobile hang maar raha hai.Toh sabse pehle Home par aa jaiye.Fir Sare Application
Close kar dijiye.Ab Task MangerMe jake Clear Ram par Click kar de.Ab aapka mobile hang hona band ho jayega.
list end
गांव तुम्हारा - शहर हमारा...
            बेटे ने जवाब दिया - हमारे पास 1 dog है और उनके पास 10-10 गाये है ।
            हमारे पास नहाने की छोटी सी जगह है और उनके पास पूरे तालाब हैं ।
              हमारे पास बिजली है और उनके पास सितारे...             हमारे पास जमीन का छोटा सा टुकडा है और उनके पास बडे बडे खेत......
             हम डिब्बे का पैक बासी खाना खाते हैं, और वो स्वयं उगाकर और ताजा तोडकर खाते हैं ।
संपत्ति पर आप का कब्जा है तो आप को अदालत जाने की जरूरत नहीं।
मकान तो नाना जी का था जिसे गिराया गया था। फिर आप की माता जी और मौसी के सहयोग से बनाया गया। मामाओं का भी कुछ तो सहयोग रहा होगा। उस मकान में अब कौन कौन रहते
हैं यह भी आपने नहीं बताया। जब तक पूरा विवरण न हो पूरा समाधान भी संभव नहीं है। नानाजी अब शायद नहीं हैं। यदि हैं तो मामाजी आप को उस मकान से नहीं निकाल सकते।
अब चलते-चलते आनंद लिजिये...
कार्टून :- खुदा कि‍सी की साइकि‍ल यूं न छीने.
s400/17.1.2017_Cartoon_kajal_mulayam_shivpal_smajwadi
धन्यवाद।
















4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    एक अच्छी प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढियाँ लिंक..
    उपयोगी जानकारी के साथ-साथ
    रात पहाड़ों पर कुछ और होती है..
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर रचनाओ का संग्रह
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...