पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 17 जनवरी 2017

550...जाते जाते वो मुझे अच्छी निशानी दे गया


जय मां हाटेशवरी...
हिंदी सिनेमा के बेहतरीन गीतकार और स्क्रिप्ट राइटर  जावेद अख्तर  का जन्म आज के दिन ही यानी  17 जनवरी, 1945 को उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के खैराबाद कस्बे में हुआ था. उन्होंने बॉलीवुड में करियर की शुरुआत बतौर डायलॉग
राइटर की थी, लेकिन बाद वह  स्क्रिप्ट राइटर और लिरिसिस्ट  बने. जावेद अख्तर ने सलीम खान के साथ मिलकर बॉलीवुड को बेहतरीन फिल्में दीं. इनमें जंजीर, त्रिशुल, दोस्ताना, सागर, काला पत्थर, मशाल, मेरी जंग और मि. इंडिया,
दीवार, शोले जैसी फिल्में शामिल हैं.
आज की चर्चा का आरंभ...
इनकी ही लिखी एक गजल से...
जाते जाते वो मुझे अच्छी निशानी दे गया
उम्र भर दोहराऊँगा ऐसी कहानी दे गया
उससे मैं कुछ पा सकूँ ऐसी कहाँ उम्मीद थी
ग़म भी वो शायद बरा-ए-मेहरबानी दे गया
सब हवायें ले गया मेरे समंदर की कोई
और मुझ को एक कश्ती बादबानी दे गया
ख़ैर मैं प्यासा रहा पर उस ने इतना तो किया
मेरी पलकों की कतारों को वो पानी दे गया



 तुम भी न बस कमाल हो...

न सोचते
न विचारते
सीधे-सीधे कह देते
जो भी मन में आए
चाहे प्रेम
या गुस्सा
और नाराज़ भी तो बिना बात ही होते हो


वाईकॉम का महादेव मंदि‍र और दीपमाला-

हम मंदि‍र के अंदर वाले भाग में घुसे। वहां दोनों तरफ गणेश और कृष्‍ण्‍ा के छोटे-छोटे मंदि‍र थे। मंदि‍र के चारों ओर लोहे की कड़ी में लटकने वाले दि‍ए लगे थे,
जो प्रज्‍जवलि‍त थे। बस, अद्भुत.... एक परि‍क्रमा कर हम बाहर आए तब ते मुख्‍य द्वार पर भक्‍तों की भीड़ लग चुकी थी। पट खुल चुके थे। ताजे फूलों का श्रृंगार
कि‍ए माता की मूर्ति दि‍खी। मां नींबूू  की माला भी पहने हुई थी। हम श्रद्धा से सर झुुकाकर मां को प्रणाम कर नि‍कल गए। ऐसा लग रहा था जैसे दीपपर्व मनाया जा
रहा हो।

छाया

तू चाहे या ना चाहे
साथ नहीं छोडूंगी
तू दीपक मैं बाती
तुझसे ही
 बंधी रहूंगी |

मत पढ़ो मेरी नज़्म ...-

ज़ुल्म के तंदूर में भुनी  
चिपक न जाएं कहीं आत्मा पर
जाग न जाए कहीं ज़मीर
मत पढ़ो की मेरी नज़्म
आवारा है पूनम की लहरों सी 
बेशर्म सावन के बादल सी
जंगली खयालों में पनपी
सभ्यता से परे
उतार न दे कहीं झूठे आवरण

ग़मों की सरपरस्ती में...-

न जाने किस भरोसे पर मुझे माँझी कहा उसने
कई सूराख़ पहले से हैं इस जीवन की कश्ती में
हमारी देह का रावन तुम्हारी नेह की सीता
'लिविंग' में साथ रहते हैं नई दिल्ली की बस्ती में


तुलसी प्रकृति का एक अदभुत उपहार है

तुलसी तपेदिक, मलेरिया व प्लेग के कीटाणुओं को नष्ट करने की क्षमता तुलसी में विद्यमान है शरीर की रक्त शुद्धि, विभिन्न प्रकार के विषों की शामक, अग्निदीपक
आदि गुणों से परिपूर्ण है यह कुष्ठ रोग का शमन करती है इसको छू कर आने वाली वायु स्वच्छता दायक एवं स्वास्थ्य कारक होती है ये  घरों में हरे और काले पत्तों
वाली तुलसी पाई जाती है तथा दोनों का सेवन स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है एक वर्ष तक निरंतर इसका सेवन करने से शरीर के सभी प्रकार के रोग दूर हो सकते हैं

कुछ ख़ामोशियां हैं

कुछ उदासियाँ हैं
तुम्हारे नाम कीं
जो आज इन पलकों
पर बिखरी पड़ीं हैं ........

लागा चुनरी में दाग

राष्ट्र-प्रतिष्ठा का सवाल था.
एक बीरबल आगे आया,
प्रभू-कान में कुछ बतलाया,
प्रभु मुस्काए, शाबाशी दी,
फिर वो गरजे -
‘बैर, फूट का साबुन लाओ
इस कलंक को अभी मिटाओ’
और दाग वह तुरत मिट गया,
तस्वीरों से कोई हट गया,
कोई आ गया.
  

आज बस इतना ही...
फिर मिलेंगे...
धन्यवाद।






















7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    बहुत ही बढ़िया
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    जाते जाते वो मुझे अच्छी निशानी दे गया
    उम्र भर दोहराऊँगा ऐसी कहानी दे गया

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ... सुंदर लिंक्स है सभी ... आभार मुझे शामिल करने का

    उत्तर देंहटाएं
  5. सभी लिक्स अच्छे थे............ आभार
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया। जावेद अख्तर जी को जन्मदिन की बधाई। मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...