पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 11 जनवरी 2017

544.....आहा.... मेरा पेड़

सादर अभिवादन
आज ग्यारह जनवरी है
वर्ष भी याद है : सन उन्नीस सौ छियासठ
जगह भी याद है : ताशकन्द
पुण्यतिथि है आज पूर्व प्रधान मंत्री
आदरणीय श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की
शत शत नमन उन्हें....
कुछ ज़ियादा तो नहीं पढ़ा आज...

इस ब्लॉग में पहली बार....
कविता भी अपना रूप बदल रही 
ठहरो तो, अंधेरा जरूर मिटेगा 
रात के साथ परछाइयाँ भी 
गुम हो जाएँगी दिन के 
निकलने से पर अभी 
एक लड़ाई बाकी है  
इस फासले का,
द्वंद्व का     
उजाले के 
सफर में,   
रात को 
गुजर 
जाने 
दो
यूँ
ही



मैंने आज खुद को किताबो के,
बाजार में देखा,
मोल मिल गया उन शब्दों को,
जो मेरे लिए अनमोल थे,
सभी पढ़ रहे है तुमको,
इक सिवा तुम्हारे,सभी जानते है,

किवाड़ों से वो देखता रहा उन्हें दिन-रात यहाँ 
दिल की दीवारों पे कब दस्तक दें पता न चले 

इंसान घिरा रहता आशंकाओं से इंसान के प्रति
फ़क़ीरों में या इंसानों में कौन है यह पता न चले  

हर बात की एक बात है कि प्रेम का ओहदा सबसे ऊपर है......समाज की मान्यताओं से कहीं ज़्यादा ऊपर| तभी तो कृष्ण और राधा के रिश्ते को कृष्ण और रुक्मणी के वैवाहिक संबंधों के मुकाबले बहुत ऊंचा दर्ज़ा प्राप्त है| गर्गसंहिता के मुताबिक जिस तरह पार्वती शिव की शक्ति है उसी तरह राधा कृष्ण की शक्ति हैं| कृष्ण के प्रति राधा का प्रेम निस्वार्थ भाव से था....कहते हैं एक बार रुक्मणी ने कृष्ण को गर्म दूध पीने के लिए दे दिया था तब राधा के तन पर छाले पड़ गए थे......
प्रेम ना बाड़ी उपजे । 
प्रेम ना हाट बिकाय ॥

आज का शीर्षक...
कानून 
किसी को भी 
नहीं पढ़ाये जाते हैं
बड़े छोटे 
का कोई भेद
नहीं किया जाता है
कभी कभी 
उल्लू को भी
राजा बनाया जाता है

आज्ञा दें दिग्विजय को





7 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुभ प्रभात भैय्या जी
      इस प्रस्तुति को उन्होंवे बनाया है
      मना करने के बावजूद
      सादर

      हटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति। आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के सूत्र 'आहा मेरा पेड़' को आज की हलचल में स्थान देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया हलचल प्रस्तुति ...
    शास्त्री जी को नमन!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    दिग्विजय जी

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...