पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 9 जनवरी 2017

542....कविता बकवास नहीं होती है बकवास को किसलिये कविता कहलवाना चाहता है

सादर अभिवादन

शुभ कामनाएँ आप सभी को
पाँच लिंकों का आनन्द 

एक लाख पेज व्यू पार कर चुका है
आप सभी के सहयोग के बिना ये मुकाम
असम्भव ही था....


एक लम्बे अंतराल के बाद
फिर उपस्थित हूँ
थोड़ा अव्यवस्थित रहूँगी मैं दो फरवरी तक
सहन कर लीजिएगा

आज की चुनिन्दा रचनाएँ......



सीमित - असीमित....अनुराधा शर्मा
मेरे जलते शब्दों के ढेर में ..
कुछ यादों के गीले काग़ज़ भी हैं.. 
और उनसे उफनते बादल भी ..
जो बदन पर चिपक गए हैं..



चूहे के सरदार ने फ़िर हस्तक्षेप करकर उसे शांत किया और बच्चे को उसकी बात आगे बढ़ाने की अनुमति दी। "हां तो बता, उस नींद की गोली का हम क्या करेंगे?" बच्चे ने कहा, "हम वो नींद की गोली दूध में मिला कर, वो दूध बिल्ली को पिलाएंगे। जब बिल्ली को नींद लग जाएगी तब हम बड़ी आसानी से उसके गले में घंटी बांध देंगे!" 

प्रेम का धागा
विश्वास के मनके
रिश्तों की माला

इस युग के रावण....मालती मिश्रा
इत-उत हर सूँ देखो तो
गिद्ध ही गिद्ध अब घूम रहे
किसी की चुनरी किसी का पल्लू
चौराहों पर खींच रहे
मरे हुए पशु खाते थे जो
अब जीवित मानव पर टूट रहे



आओ फिर शर्म करे 
सभ्य होने अदा रस्म करें 
किसी ने कहा "कपड़ो का ख्याल रखो" 
किसी ने "शाम होने के बाद घर से न निकलो" 
किसी ने कहा "पुरुष मित्र न बनाओ " 
किसी ने शराब न पीने की सलाह दी कारण?? 

मेरे मौला !
न तू मुझसे ग़ाफ़िल
न मैं तुझसे ग़ाफ़िल
तू मुझ में है
और मैं तुझ में...


आज का शीर्षक....
टिप्प्णी कर 
देने वालों के 
चरण 
पादुकाओं 
की तरफ 
ध्यान चला 
जाता है 
......
रहने दे 
‘उलूक’ 
औकात में 
रहना ही 
ठीक 
रहता है 

आज्ञा दें यशोदा को
फिर मिलेंगे,,,


11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर लिंक्स आज की हलचल में ! मेरी प्रस्तुति 'प्रेम' को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    बहुत सुन्दर लिंको का संकलन

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक लाख पृष्ठ दृष्य के अंक को पार करने के लिये हलचल को बधाई । आज की सुन्दर प्रस्तुति में 'उलूक'के सूत्र 'कविता बकवास नहीं होती है बकवास को किसलिये कविता कहलवाना चाहता है' शीर्षक देने के लिये आभार यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक लाख पृष्ठ दृश्य पार करने के लिए हलचल को ढ़ेर सारी शुभकामनाएं। मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर लिंकों का संयोजन, एक लाख पृष्ठ अंकों को पार करने के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर लिंकों का संयोजन, एक लाख पृष्ठ अंकों को पार करने के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'पांच लिंकों का आन्नद ' की इस विशेष कड़ी को चयनित रचनाओं ने ख़ास बना दिया है। मेरी ओर से इस ब्लॉग के एक लाख से अधिक पृष्ठ दृश्य होने पर हार्दिक बधाई एवं मंगलकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत धन्यवाद यशोदा जी, मेरी रचना को जगह देने के लिए .. सभी रचनाएँ एक से बढ़कर एक थी .. आपकी पारखी नज़र को मेरा सादर नमन !

    अनुराधा :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर लिंक संयोजन :) मेरी रचना को स्थान देने हेतु हार्दिक आभार

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...