पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 2 जनवरी 2017

535.....थोड़े समय में देख भी ले बेवकूफ कौन क्या से क्या हो जा रहा है

सादर अभिवादन
नूतनवर्षाभिनन्दन
नव वर्ष शुभ हो
सहन किया वर्ष सोलह को
इसे भी कर लेंगे
सहनशील होते हैं...हम भारतीय..
काफी से अधिक....सहते रहते हैं...

आज की चुनिन्दा रचनाओं के अंश....

तन-मन में रहे सदा, माटी की सौंधी गंध
कर्मों में गूंजे सदा, भारतीयता के छंद
जन-जन से हो उल्लास, प्रेम के अनुबंध
नववर्ष में महक उठे, घर-घर ये मकरंद

बेईमानी से उसे कोख में पहचाना गया 
फिर किसी जख़्म की मानिंद कुरेदा भी गया 
अनगढ़े हाथों को, पैरों को कुचल काटा गया 
नैनों को, होंठो को, गालों को नोंचा भी गया 

हम काले रंग को कुरुपता का प्रतीक मानते है। इसकी असली वजह 
अलग-अलग रंगों से जुड़ी हमारी भ्रांतियां है। इसी सोच की बदौलत 
“धूप में निकला न करो रुप की रानी...”, “गोरी है कलाइयां...” जैसे गानों की भरमार हैं और “मोहे श्याम रंग दई दे...” 
जैसी कविताएं इक्का-दुक्का ही नजर आती है।

ये जो तेरे दिल में उनकी मोहब्बत है
ये तेरे मेहबूब की इक अमानत  है 
जिसकी हर एक सांस है तेरे खातिर 
ये भी खुदा की इक बड़ी इबादात है 


आज का शीर्षक..
उसकी अपनी खुद 
की बनाई हुई सब 
नजर आती हैं 
किसी ने कभी उसे 
क्यों नहीं टोका कि 
इतने सारे अवतार 
क्यों अपने वो बनाये
जा रहा है 
हर दूसरे को छोड़ 
तीसरा अपने आप को 
उसका ही आदमी 
एक बता रहा है 

आज्ञा दें यशोदा को
सादर





  




6 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा लिंक्स चयन
    सस्नेहाशीष शुभ दिवस छोटी बहना

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी। आभार 'उलूक' के तीन वर्ष पुराने सूत्र 'थोड़े समय में देख भी ले बेवकूफ कौन क्या से क्या हो जा रहा है' को शीर्षक देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उम्दा लिंक्स... मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...