पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 1 जनवरी 2017

534...स्वागत! नवयुग के नवल वर्ष! तुम आओ स्वर्ण-विहान लिये।

जय मां हाटेशवरी...



आप सभी को नूतन वर्ष 2017 की शुभकामनाएं...
स्वागत! जीवन के नवल वर्ष
आओ, नूतन-निर्माण लिये,
इस महा जागरण के युग में
जाग्रत जीवन अभिमान लिये;
दीनों दुखियों का त्राण लिये
मानवता का कल्याण लिये,
स्वागत! नवयुग के नवल वर्ष!
तुम आओ स्वर्ण-विहान लिये।
संसार क्षितिज पर महाक्रान्ति
की ज्वालाओं के गान लिये,
मेरे भारत के लिये नई
प्रेरणा नया उत्थान लिये;
मुर्दा शरीर में नये प्राण
प्राणों में नव अरमान लिये,
स्वागत!स्वागत! मेरे आगत!
तुम आओ स्वर्ण विहान लिये!
युग-युग तक पिसते आये
कृषकों को जीवन-दान लिये,
कंकाल-मात्र रह गये शेष
मजदूरों का नव त्राण लिये;
श्रमिकों का नव संगठन लिये,
पददलितों का उत्थान लिये;
स्वागत!स्वागत! मेरे आगत!
तुम आओ स्वर्ण विहान लिये!
सत्ताधारी साम्राज्यवाद के
मद का चिर-अवसान लिये,
दुर्बल को अभयदान,
भूखे को रोटी का सामान लिये;
जीवन में नूतन क्रान्ति
क्रान्ति में नये-नये बलिदान लिये,
स्वागत! जीवन के नवल वर्ष
आओ, तुम स्वर्ण विहान लिये!
सोहनलाल द्विवेदी

अब पेश है...चयनित कड़ियां...


वह साल गया, यह साल चला.....हरिवंशराय बच्चन
मित्रों ने हर्ष-बधाई दी
मित्रों को हर्ष-बधाई दी
उत्तर भेजा, उत्तर आया
'नूतन प्रकाश', 'नूतन प्रभात'
इत्यादि शब्द कुछ दिन गूंजे
फिर मंद पडे, फिर लुप्त हुए
फिर अपनी गति से काल चला;
वह साल गया, यह साल चला।


मुदित मन से आ रहा नव वर्ष है-
दर्द दुःख की कालिमा से मुक्त हो
उदित हो सूरज क्षितिज के भाल पे
उल्लसित हो थिरकने वसुधा लगे
मुग्ध हो संसृति प्रकृति की चाल पे !
बह चले गंगा पराई पीर से
पिघलता हो मन किसी बदहाल पे
जंग और आतंक की बातें न हों
शुभाशंसा हो लिखी हर भाल पे !

आनेवाली मुस्कराहटों ...-
बस जरा सा..
हँसते हुए ख्वाबों ने कान के पास आकर हौले से बोला..
क्या जाने कल क्या हो?
कोमल मन के ख्याल अच्छी हि होनी चाहिए..।

आओ खेलें झूठ सच खेलना भी कोई खेलना है-
किसी
एक झूठे
के
बड़े झूठ
ने ही
जीतना है

झूठों में
सबसे
बड़े झूठे
को
मिलना
है ईनाम
किसी
नामी
बेनामी
झूठे
ने ही
खुश
हो कर
अन्त में
उछलना है

भुला नहीं देना जी भुला नहीं देना-
वैसे काफी पहले से ही मोबाईल,लैपटॉप,डेस्कटॉप आदि ने संगीत उपकरणों की जगह लेनी शुरू कर दी थी,रही सही कसर इंटरनेट पर मौजूद गीतों,गजलों का भरपूर संग्रह भी
इसका एक कारण हो सकता है.आने वाले समय में तकनीक का और विस्तार हो सकता है लेकिन संगीत प्रेमियों के लिए संगीत का खजाना तब भी बदस्तूर जारी रहेगा.
इन कैसेटों पर नजर जाती है तो लगता है ये कह रही हों.........
भुला नहीं देना जी भुला नहीं देना
जमाना ख़राब है दगा नहीं देना

         नववर्ष ( गीत ).....नीलेन्द्र शुक्ल
         नवजीवन हो नये वर्ष में
         भरे सदा उजियारा ।
        रहे सदा उत्तुड़्ग श्रृड़्ग
        पर भारतवर्ष हमारा ।।

आकांक्षा...संध्या शर्मा-
और मैं
पलकें बंद करके
डूबी रहूँ
प्रीत की गहराईयों में ....

धन्यवाद।






10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    नूतनवर्षाभिनन्दन
    शानदार चयन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ! मेरी रचना को आज की हलचल में सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से आभार कुलदीप जी ! सभी मित्रों व पाठकों को नव वर्ष २०१७ की हार्दिक शुभकामनायें ! नया साल मुबारक हो !

    उत्तर देंहटाएं
  3. ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं के संग शुभ नव दिवस सपरिवार आपके लिए 💐😍

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ! मेरी रचना को आज की हलचल में सम्मिलित करने के लिए आपका आभार ..
    नव वर्ष २०१७ की हार्दिक शुभकामनायें!नया साल मुबारक हो!💐💐

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर हलचल.मुझे भी शामिल करने के लिए आभार.
    हलचल परिवार को नव वर्ष की शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप को भी सर नव वर्ष की शुभकामनाएं। साथ ही हम सब ये भी चाहते हैं कि 2017 आप केवल एक दिन यहां अपनी पसंद के पांच लिंक पेश करके इस ब्लौग की शोभा बढ़ाएं।
      पुनः आभार।

      हटाएं
  6. सुन्दर संकलन ... स्थान देने हेतु आभार सहित नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  7. नववर्ष मंगलमय हो सभी चर्चाकारों, चिट्ठाकारों पाठको के लिये सपरिवार शुभ हो नया साल । आभारी है 'उलूक' सूत्र 'आओ खेलें झूठ सच खेलना भी कोई खेलना है' को आज की हलचल जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं

  8. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    सभी साथियाें का्े नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बहुत आभार मैम मेरे गीत को इतना स्नेह देने के लिए और इसी क्रम
    में मैं नीलेन्द्र आप सभी को हृदय से नववर्ष की शुभकामनाएँ देता हूँ और
    कहना चाहूँगा कि पुरानी सारी अच्छी यादों को लेकर एक नए संकल्प के साथ
    नये वर्ष में प्रवेश करते हैं 2017 में साहित्य से समाज के लिए कुछ बेहतरीन संकल्प ।।धन्यवाद शुभरात्रि

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...