पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 31 दिसंबर 2016

533 .... अंत=आरम्भ






शब्दपर्यायवाची
अंतस्वर्गवास, मरण, मृत्यु, देहांत, मौत

कब होगी सुरसा का अंत समस्याओं की

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष






चाहे मालामाल हो चाहे हो कंगाल ।
हर कोई कहता मिला, दुनिया है जंजाल।।

राजनीति का व्याकरण, कुर्सीवाला पाठ।
पढ़ा रहे हैं सब हमें, सोलह दूनी आठ।।




‘‘कार्ड से भुगतान करना है। कितने का बिल है?’’
‘‘नौ सौ रुपए हुए। लेकिन, अभी कार्ड से भुगतान नहीं कर सकते।
 काम नहीं कर रहा है। कैश ही देने होंगे।’’
‘‘कैश नहीं हैं मैडम’’
‘‘तो थोड़ा इन्तजार कीजिए ..... ठीक होने तक।’’
 इतना बोलकर मैडम अपनी कुरसी पर बैठ गयी।
मैं बगल में खड़ा इन्तजार करता रहा। पूरे पांच घंटे बीत चुके!
जो कोई आता, तिरछी नजर से मेरी ओर देखता।
मैं बुरी तरह फंस चुका था। किसी तरह घंटों अपना मुंह
हर आने-जाने वालों से छुपाता रहा। अंत में रात को
अपना बिल चुका पाया और किसी तरह आफत टली।


















अमन का मतलब है
ख़ूबसूरती के क़दमों में रख देना सारे हथियार-
ओस में भीगता हुआ लोहा जंग खाता है आख़िरकार
*
अमन का मतलब है इस बात का खरा-सच्चा इक़बाल
क्या किया गया क़त्ल हुए इंसान के साये का हाल
*
अमन का मतलब है फिर से अपने बाग़ीचों में होना 
और फिर से अपनी पसंद की फ़सलों को बोना








जब 31 दिसंबर की रात को ठीक १२ बजे
घनघना उठेगी मेरे फोन की घंटी
तो उसी तरह उत्साह से भर कर
फिर से कहूँगी

” Happy New Year ”

स्वागत में आगत के बिछा दूँगी
स्वप्नों के कालीन
सजा दूँगी आशाओं के गुलदस्ते
और दरवाजे पर
टांग दूँगी
उम्मीदों के बंदनवार
क्योंकि उम्मीदों का जिन्दा रहना
मेरे जिन्दा होने का सबूत है







<><><><>



फिर मिलेंगे ...... तब तक के लिए











6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    हमेशा की तरह लाजवाब
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर सूत्रों का चयन सुन्दर प्रस्तुति के साथ विभा जी । नये साल की सभी को शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभप्रभात आंटी....
    सुंदर संकलन...
    आभिार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नव वर्ष के लिए मंगल कामनाएं..वर्ष की अंतिम हलचल के लिए बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत सूत्र ! हलचल की समस्त टीम एवं सभी मित्रों पाठकों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    HAPPY NEW YEAR 2017.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    नए साल की हार्दिक शुभकामनाओं सहित

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...