पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 26 दिसंबर 2016

528.....फिसलते हुऐ पुराने साल का हाथ छोड़ा जाता नहीं है

सादर अभिवादन
एक और दिन
बीता दिसम्बर का

आप भी शामिल हों आज की परिक्रमा में..


निराशा को हावी न होने दे.....प्रेरक कथा
कभी – कभी निरंतर मिलने वाली असफलताओं से व्यक्ति
यह मान लेता है कि अब वह पहले की तरह कार्य नहीं कर सकता,
लेकिन यह पूर्ण सच नहीं है।

ग़ज़ल.....कमला सिंह 'ज़ीनत'
मैं   तुझे  चाहती  हूँ  ऐ  ज़ालिम
तू  ज़माने  को  ये  खबर  कर दे

नाम  से   तेरे   जानी  जाऊँ  मैं
मुझपे बस इतनी सी मेहर कर दे



गुजरा या गुजारा.... विभारानी श्रीवास्तव
आदत नहीं कभी बहाना बनाना
फुरसताह समझता रहा ज़माना
छिपा रखें कहाँ टोंटी का नलिका
सीखना है आँखों से पानी बहाना



देख लड़की मैं जानता हूँ 
तूँ कामना करती थी
मुरादों के दिन की 
दिसम्बर की कंपकपाती रात की तन्हाई में


नहीं आये न तुम !
अच्छा ही किया !
जो आते तो शायद
निराश ही होते ! 


भूख से बेदम.... किसी सड़क ने 
पिघलते सूरज की आड़ में, 
घसीट के फेंका.... 
एक ऐसी राह में जो दिन में झिझक से 
सिकुड़ जाती है 
और रातों में बेशर्मी से चौड़ी हो जाती है।


किसी की भावना को आहत करने का कोई इरादा नहीं 
त्यौहार जीवन की एकरसता को ताज़गी और ख़ुशी से भर देते हैं ,सर्व धर्म समभाव की विचार धारा वाले वाले इस देश में असंख्य त्यौहार मनाये जाते हैं कोई भी त्यौहार मनाने में किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए अगर आपकी ख़ुशी में कोई शामिल होता है तो आपका भी कर्तव्य है


एक दिन सुबह ठीक पाँच बजे तुमने कॉल किया था और 
एकदम हड़बड़ी में कहा था, "सुनो.. दिसंबर जाने वाला है..
बस पाँच दिन बचे हैं, और तुम सो रहे हो...? उठो, फ़ौरन उठो और 
जल्दी से तैयार होकर पार्क आ जाओ". कसम से , मेरा तो दिल किया था फोन में घुस जाऊं और तुम्हारी चोटी काट लूँ. 


आज का शीर्षक....

बहुत कुछ से 
कुछ भी नहीं होते होते 
आदमी दीवालिया हो गया 
पता नहीं समझ नहीं पाया 
उस समय समझ थी 
या अब समझ खुद 
नासमझ हो गई 
साल के बारहवें महीने 
की अंतिम तारीख 
आते समय कुछ 
अजीब अजीब सी सोच 
सबकी होने लगी है 

आज्ञा दें दिग्विजय को
सादर



9 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमन
    अच्छी रचनाएं पढ़वा रहे है आप
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर एवं चिंतनीय सूत्र ! मेरी रचना 'अवमूल्यन' को आज की हलचल में सम्मिलित करने के लिए आपका आभार दिग्विजय जी ! सभी पाठकों को क्रिसमस पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभप्रभात....
    नैट की कृपा हो गयी...
    सो मैं प्रस्तुति पढ़ सका....
    आभार सर आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया प्रस्तुति । आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के सूत्र 'फिसलते हुऐ पुराने साल का हाथ छोड़ा जाता नहीं है' को चर्चा का शीर्षक देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर ! मेरी रचना को आज की हलचल में सम्मिलित करने के लिए आपका आभार दिग्विजय जी !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...