पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 25 दिसंबर 2016

527.....फूलों की बातें

सादर अभिवादन
रविवार, पच्चीस दिसम्बर
साल का तीन सौ साठवाँ दिन
त्योहार क्रिसमस का
पर...एक गड़बड़ तो हो गई
कैलेण्डर से
एक छुट्टी गायब कर दी
सरकारी कर्मचारियों की

अचानक आए फोन से आज मैं यहाँ मौजूद हूँ...क्षमा

चलिए चलते हैं पढ़ी-सुनी रचनाओं की ओर...

अच्छे परफॉरमेंस और स्टंट से अपना नाम पूरी दुनिया में कमाया।
सुनिए गीता जी की जुबानी


जीवन चलने का नाम
बहता है झरने की मानिंद
अविरत.......
समय के तो मानों
लगे हो पंख
उडता है

इससे ऊपर कोई परिचय क्या ?....रश्मि प्रभा
मैं कौन हूँ ?
अपने पापा की बेटी
माँ की बेटी
बहन हूँ
माँ हूँ
और सबसे बड़ी बात
नानी और दादी हूँ

प्रेम.........करुणा सक्सेना
शब्दों में बंधे भाव
और भावों में गुंथे
प्रेम में
कचियाए अनुभव
उतर आए
पतवार बनकर !

छूटता कुछ भी नही है इस जहाँ...सुषमा वर्मा
ये साल भी जा रहा है,
हर साल की तरह,
कुछ ख्वाइशें पूरी होते-होते,
अधूरी रह गयी...
कुछ दर्द जिंदगी को जार-जार कर गए,

मेरे दिल की लगी आग को....जयन्ती प्रसाद शर्मा
मेरे दिल की लगी आग को आंचल से हवा दे दी,
बीमार विस्मिल यार को मरने की दवा दे दी।

आज का शीर्षक...
पौपी की 
कली अफीम 
बनवाती है
बेनूरी पर 
नरगिस
अपनी क्यों 
रोती चली 
जाती है
डैफोडिल 
जलते भी है
रजनीगंधा 
देख कर
लोगों के दिल
मचलते भी हैं

आज रविवार के दिन क्रिसमस का आनन्द लीजिए
सोमवार को मैं नहीं आऊँगी
आज्ञा दें यशोदा को
















8 टिप्‍पणियां:

  1. सभी चर्चाकारों चिट्ठाकारों और पाठकों को क्रिसमस की शुभकामनाएं 'गीता'आँखें नम करती है कुछ देर के लिये । सुन्दर पोस्ट । सुन्दर क्रिसमस प्रस्तुति यशोदा जी। आभारी है 'उलूक' सूत्र 'फूलों की बातें' को चर्चा का शीर्षक देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी रचनाएँँ एक से बढ़कर एक ।मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए बहुत आभारी हूँ यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'फूलों की बातें' सुन्दर हलचल। हलचल में मुझे शामिल करने के लिये बहुत बहुत धन्यबाद यशोदा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी रचनाएँ बहुत बढ़िया हैं। मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपकी बहुत आभारी हूँ यशोदा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही अच्छी हैं सारी रचनाए...मेरे पोस्ट को अपनें साइट में लाने के लिए धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं

  6. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ..
    सभी को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...