पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 21 दिसंबर 2016

523....सरकारी आदेश तैयार शिकार और कुछ तीरंदाज अखबारी शिकारी

सादर अभिवादन
पिछले दो दिनों से ठण्ड बहुत थी
आज कुछ कम है...
उन्होंनें कुछ प्रस्तुतियां बनाई 
आभार..उनको...
...
कभी जिन्दगी का ये हुनर भी आजमाना चाहिए,
जब अपनों से जंग हो, तो हार जाना चाहिए

आज की यायावरी में जो कुछ दिखा.....


बक बक बूम बूम ...रश्मि प्रभा
बर्फ के फाहे जैसी उड़ती 
छोटी छोटी रूइयाँ 
नाक,कान,आँख,सर पर 
पड़ी होती थीं 
जितनी हल्की होती रूइयाँ 
उतनी बेहतर रजाई !




हमारी बेटी को अपने सीने पर लिटाकर उसने प्यार किया और एक पोटली में से उसके लिए वही अपनी चिर-परिचित चाँदी की भारी-भरकम पाज़ेब निकालकर उसके नन्हें से पाँवों में पहना दीं। दुर्गारानी को कन्धा देकर और उसका अंतिम संस्कार करके इन्होने उसकी ख्वाहिश पूरी की.

सच कहना 
गुनाह तो नहीं है 
रूठते लोग।

मन भारी था,
शब्द मौन।
क़ाश, कोई तारा टूटता तारा
इसी वक़्त मेरी झोली में आ गिरे
कैसे गिरता!
ईश्वर आज भी हड़ताल पर था...!!

बन्दे का काम घेर, उसूलों ने ले लिया 
है गलतियाँ रहस्य, बहानों ले लिया |

वो बात जो थी कैद तेरे दिल की जेल में 
आज़ाद करना काम अदाओं ने ले लिया |


कैसे इनके जाल से बच पायेगा देश... साधना वैद
झूठे हैं नेता सभी, उथली इनकी सोच
लोकतंत्र के पैर में, इसीलिये है मोच !

जैसे उगते सूर्य का, होता है अवसान
नेता जी के तेज का, अंत निकट लो जान !




आज का शीर्षक.. सुशील जोशी
पहले दिन की खबर 
दूसरे दिन मिर्च मसाले 
धनिये से सजा कर 
परोसी गई होती है 
‘उलूक’ से होना 
कुछ नहीं होता है 
हमेशा की तरह 
उसके पेट में 
गुड़ गुड़ हो रही होती है 
बस ये देख कर कि
किसी को मतलब 
ही नहीं होता है 

आज्ञा दे यशोदा को
फिर मिलते हैं

सादर






5 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात यशोदा जी ! बहुत सुन्दर सूत्र चुने हैं आज ! आज की हलचल में 'नेताजी' भी विराजमान हैं देख कर प्रसन्नता हुई ! आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति । आभार यशोदा जी 'उलूक' के सूत्र को भी स्थान देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी कहानी 'दुर्गा रानी' को आज के 'हलचल'के अंक में सम्मिलित करने के लिए धन्यवाद यशोदाजी. 32 साल पहले लिखी गयी इस कहानी से मैं आज भी भावनात्मक रूप से जुड़ा हूँ. प्रीति अज्ञात की कविता 'ईश्वर आज भी हड़ताल पर था, अच्छी लगी. साधना वैद के दोहे सटीक हैं. उलूक की पेट की गुड़-गुड़ रोज़ कुछ न कुछ गुल खिलाती है. जिस दिन ये गुड़-गुड़ न हो लगता है कि उसकी तबियत कुछ नासाज़ है.

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...