पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 12 दिसंबर 2016

514....किसने कहा तुझसे 'उलूक' तू कूड़े पर लिख

सादर अभिनन्दन
शनिवार को आदरणीय विभा दीदी की 
प्रस्तुति काफी से अधिक पसंद आई
एक अच्छा प्रयोग किया दीदी ने
इसे जारी रखने का विचार है
कृपया अपनी राय देंगे


चलिए चलें आज की चयनित रचनाओं की ओर..
आज के शीर्षक पर एक टिप्पणी
किसने  कहा  
तुझसे  'उलूक' 
तू कूड़े  
पर लिख
......
अरे लिखना ही था
तो किसी 

कागज पर लिखता
नोट पर लिखता..
या फिर किसी के
पीठ पर ही लिख देता

.......

दो तस्वीर....रेवा
उन दो तस्वीरों
से फिर रंग चुराया
उसमे मिलाये
सारे गिले शिकवे
और प्यार
फिर बनायी दो तस्वीर


कहीं वो ग़ज़ल तो नहीं.... ठाकुर दास 'सिद्ध'
सवालों के अंबार हैं,
मिला कोई हल तो नहीं।

ज़ुबाँ पर अलग राग है,
लिया दल बदल तो नहीं।




क्या तुम नहीं जानते थे - मुक्ता
हर वो बात जो जानना तुम्हारा लिए जरूरी था
मुझे याद है मेरी ज़िन्दगी का
हर पन्ना तुम्हारे सामने एक दम स्पष्ट था
फिर क्यों अचानक याद आया तुम्हें
नहीं निभा सकते तुम सारे वादे


यूट्यूब पर बंटा अनोखा ज्ञान नास्त्रेदमस को लेकर....गिरीश बिल्लौरे 'मुकुल'
नास्त्रेदमस की वर्ष 2017 से जुड़ी भविष्यवाणी कहती है कि भारत 2017 का यह वर्ष सालों-साल याद रखेगा। इस वर्ष कुछ ऐसा खास होगा, 
जो भारतीयों को दुनिया के सामने बड़े स्तर पर ले आएगा। इसके बाद नास्त्रेदमस ने जो कहा, उसे जान आपके होश उड़ जाएंगे। यह तो सभी जानते हैं कि नास्त्रेदमस ने अपनी भविष्यवाणियों में भारतीय सत्ता की बात कही, जिसके अनुसार नरेन्द्र मोदी एक बेहतरीन सत्ताधारी साबित होंगे। लेकिन एक अगली भविष्यवाणी के अनुसार नरेन्द्र मोदी भारतीय सत्ता संभालने के बाद अगले 12 सालों तक देश के हित में कार्य करेंगे। जी हां...  वर्ष 2026 तक मोदी सरकार भारत पर राज करेगी। यानी कि मोदी जी का प्रधानमंत्री काल काफी लंबा होने वाला है




स्त्री नहीं सहती....डॉ. प्रतिभा स्वाति
स्त्री चीखती हैं 
पर 
उसकी महीन आवाज़ 
उलझ जाती है 
घर के चौके - चूल्हे से ...





आज का शीर्षक...
किताब 
में लिख
कापी 
में लिख
नहीं मिलता 
है लिखने 
को तो
बाथरूम 
की ही
दीवारों 
पर ही लिख

आज्ञा दें यशोदा को
सादर


आज के रचना कार

रेवा टिबड़ेवाल, ठाकुर दास सिद्ध, मुुक्ता, गिरीश बिल्लौरे
डॉ. सुशीलकुमार जोशीडॉ. प्रतिभा स्वाति




7 टिप्‍पणियां:

  1. सस्नेहाशीष व असीम शुभकामनाओं और शुभ दिवस संग शुक्रिया छोटी बहना

    उत्तर देंहटाएं
  2. Khubsoorat links, Garv hai aap ke niranter naye pratibhashali klakaro ko iss stumbh me zodne ka. Dr Pratibha Sowati ji ka abhinandan .. Roz mera pehla prayas , aap ke link ko samajhne ka aur kutch prerna pane ka,,,,Ishwer NaMo ji ko tandrust lambi umar vardaan me de, 2026 tak woh desh kp fir se funia ka swaran qatan bna deve .. Aabhar Yashoda ji aur Vibha ji, Naari shakti ko poora samaan dene ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  3. शाख पर बैठे
    'उलूक' को
    लोग रात में तक
    उड़ाते हैं भगाते हैं
    उसका क्या
    करे कोई
    जो ढूँढ कर
    कहीं से भी
    उसे उठा कर
    फिर फिर
    ले आते हैं।

    सुन्दर 514वां अंक । आभारी है 'उलूक'।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...