पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 10 दिसंबर 2016

512 .... मोहितपन





सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


भटकन को ब्रेक लगाते हुए
एक ब्लॉग पर टहलते हैं 
पढ़ते हैं


कुछ लोगो को तो पब्लिक मे आना ही चाहिये.
दुनिया का दर्द उनके लिए नहीं बना है.
 जब वो दुनिया देखते है या तो 
वो सच्चाई को नकार कर आगे बढ़ जाते है





बेटा जब बड़े हो जाओगे ना...
...और कभी दुख का पहाड़ टूट पड़े,
तो कड़ी धूप में कूकती कोयल में उम्मीद सुन लेना। 
जब सामने कोई बड़ी चुनौती मिले,
तो युद्ध में घायल सैनिक से साँसों की कीमत जांच लेना।





उसके दिमाग में चल रहा था...
"काश कई साल पहले उस दिन, 
मेरी छोटी सोच और परिवार के दबाव में 
तीव्र ऑटिज़्म से पीड़ित अपने बच्चे को 
मैं स्टेशन पर सोता छोड़ कर न आती।"




 "मानवता की तरक्की के लिए कुछ कुरबनियां तो देनी पड़ती है।"





उलट-सुलट उच्चारण के तेरे मंत्र-आरती चल गए,
रह गए हम प्रकांड पंडित फीके... 
दुनियादारी ने चेहरों को झुलसा दिया,
उनमे उजले लगें नज़र के टीके। 

समाप्त!


फिर मिलेंगे ..... तब तक के लिए

आखरी सलाम 


विभा रानी श्रीवास्तव




5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    एक ही विषय
    के महारथी
    ढेरों सलाम
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मोहितपन
      एक ही ब्लॉाग से
      ताज्ज़ुब
      सादर

      हटाएं
  2. 5 के 5 लिंक्स मेरे ब्लॉग से! इतना सम्मान-स्नेह देने और उत्साहवर्धन करने के लिए हृदय से धन्यवाद! :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति सुन्दर अन्दाज विभा जी।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...