पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 9 दिसंबर 2016

511...आती ठंड के साथ सिकुड़ती सोच ने सिकुड़न को दूर तक फैलाया पता नहीं चल पाया

सादर अभिवादन..
अब दिन कितना बचा
फटाके फूटेंगे
नाच -गाना होगा
नया साल मुबारक कह कर
प्रतीक्षा करेंगे वर्ष
अट्ठारहवें का...

आज की पसंदीदा रचनाओं के कुछ अंश....

भ्रष्ट और आचार
इन दो शब्दों का मेल,
चारों ओर फैला है
इसी मेल का खेल।

जिन गीतों का सच मर चुका है
तुम क्यूँ उन्हें गाए जा रहे हो

भावनाओं का मेल है ये जीवन
भावनाओं से भागे जा रहे हो

मैंने सहेजकर दिया
वो उजले धागे वाला मेजपोश
जिसमें बुनी थी , सुलझाई थी
गर्भ में तुम्हारी अनुभूति की पहेलियाँ


'आस-पास ही देख रहा हूँ मिटटी का व्यापार ,
चुटकी भर मिटटी की कीमत जहाँ करोड़ हज़ार ,
और सोचता हूँ आगे तो होता हूँ हैरान
बिका हुआ है कुछ मिटटी के ही हाथों इंसान .''

भाग्य हमेशा साहसी इंसान का साथ देता है...कविता रावत
बिना साहस कोई ऊँचा पद प्राप्त नहीं कर पाता है।
निराश होने पर कायर में भी साहस आ जाता है।।
मुर्गा अपने दड़बे पर बड़ा दिलेर होता है।
कुत्ता अपनी गली में शेर बन जाता है।।




मन इतना बेचैन तू क्यों है?
इस दुनिया में खोया क्यों है?

आंखों में तू ख्वाब सजा कर
दिल में लेकर बैठा क्यों है?  

आज का शीर्षक..
उसके भी समझ में 
आते आते ये भी 
मालूम नहीं चल पाया 
दिमाग कब अपनी 
जगह को छोड़ कर 
कहीं किसी और जगह 
ठौर ठिकाना ढूँढने 
को निकल गया फिर 
लौट कर भी नहीं आ पाया 

आज्ञा दें दिग्विजय को..
सादर



3 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    आभारी रहूँगी सदा
    साथ देते रहिएगा
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर सूत्रों के साथ आज की सुन्दर हलचल में 'उलूक' की एक पुरानी बकबक 'आती ठंड के साथ सिकुड़ती सोच ने सिकुड़न को दूर तक फैलाया पता नहीं चल पाया' को भी स्थान देने के लिये आभार दिग्विजय जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...