पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 7 दिसंबर 2016

509.....जमीन की सोच है फिर क्यों बार बार हवाबाजों में फंस जाता है

सादर अभिवादन...
दिसम्बर का सातवाँ दिन
तेईस दिन बाद
धमा-चौकड़ी भरते
सन दो हजार सत्रह का प्रवेश


सब की मेहनत के भरोसे आ गया इस मोड़ पर
नाम है साझा सभी के तुम शिखर पाने तो दो

पक चुकी है उम्र अब क्या दोस्ती क्या दुश्मनी
वक़्त कितना क्या पता रिश्तों को सुलझाने तो दो


एक रिश्ता दोस्ती का
फलसफा यह जिंदगी का,
खूबसूरत सा जहाँ  यह
एक नाता हो ख़ुशी का !

घर आंगन छोड के जाना, कब अच्छा लगता है
आँखों से आँसू छलकाना, कब अच्छा लगता है

रोटी की मजबूरी, अक्सर छुडवा देती अपना देश
पराये देश में व्यापार फैलाना कब अच्छा लगता है

नापाक पाक से बात नहीं
बर्दाश्त कोई और घात नहीं
नक्शे में अब ये पाक नहीं
चाहे मरमिटे अपने लाख सही



दूर के ढोल सुहाने.....मालती मिश्रा
वैसे तो मानव के पास
गुणों का खजाना है 
पर समय निकल जाने के
उपरांत ही सदा 
इसने उनको पहचाना है




आज का शीर्षक..
की बात 
करने वाला 
सोचते सोचते 
एक दिन 
खुद ही 
जमींदोज 
हो जाता है ।

आज्ञा दें यशोदा को
सादर





12 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर बुधवारीय हलचल । आभार 'उलूक' का यशोदा जी सूत्र 'जमीन की सोच है फिर क्यों बार बार हवाबाजों में फंस जाता है' को चर्चा में जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात सस्नेहाशीष संग छोटी बहना
    उम्दा चयन

    उत्तर देंहटाएं
  3. जब तक खुद ज़मींदोज़ नहीं हो जाता, वह सैकड़ों को ज़मींदोज़ कर चुका होता है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर हलचल ... आभार मुझे शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़ि‍या हलचल...धन्‍यवाद आपका

    उत्तर देंहटाएं
  8. अति सुन्दर।
    रूप अरूप जैसी हृदय स्पर्शी रचनाएं प्रस्तुत करने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी रचनाओं का चयन एवं प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...