पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 27 नवंबर 2016

499...जानिए, आज के जमाने की अच्छाइयां...!!!-

जय मां हाटेशवरी....

अभी भी...भाई विराम सिंह जी  छुट्टी पर है...
इस लिये आनंद के इस सफर में....मैं कुलदीप ठाकुर एक बार फिर...
         ''इंसान ने वक़्त से पूछा...
          "मै हार क्यूं जाता हूँ ?" 
                 वक़्त ने कहा..
              धूप हो या छाँव हो,
         काली रात हो या बरसात हो,
         चाहे कितने भी बुरे हालात हो,
           मै हर वक़्त चलता रहता हूँ,
            इसीलिये मैं जीत जाता हूँ,
                तू भी मेरे साथ चल,
             कभी नहीं हारेगा............."
हम भी बिना रुके चल रहे हैं....
और कल 500 अंक पूरे हो जाएंगे...
...ये रहे आज के लिंक...

यादें
दो नन्हे दीप
बिटिया की आँखों के
देते हौसला।
जाड़े की धूप
नर्म -सा एहसास-
बेटियाँ ख़ास।

 जानिए, आज के जमाने की अच्छाइयां...!!!-
बरेली की रहने वाली 14 साल की रेप पीड़िता को कोर्ट ने अबॉर्शन की अनुमती नहीं दी थी। जब लोगों को पता चला कि रेप पीड़िता के आर्थिक हालात ठीक नहीं है और वो खुद
अभी एक बच्ची ही है, ऐसे में उस नाजायज बच्चे का तिरस्कार करने की बजाय, हिंदू-मुस्लिम, अमीर-गरीब, करीब एक दर्जन लोग बच्चे को गोद लेने आगे आएं!
आज भी जब समाज में रेप पीड़िता को ही पुर्णत: दोषी माना जाता है, उसे तिरस्कार भरी नजरों से देखा जाता है, आज भी जब इंसान की ख़्वाहिश यहीं रहती है कि उसके बच्चे
में उसका अपना अंश या खून मौजूद हो, तब इतने सारे लोगों का बच्चे को गोद लेने के लिए आगे आना किस बात का सबूत है? यहीं न, कि आज इंसान दूसरे के दु:ख-दर्द को
समझ रहा है!! आज भी अच्छाई जिंदा है!

 हज़ार के नोट-
अगर टैक्सवालों को पता चल जाय,
तो मेरे लिए बताना मुश्किल हो जाय
कि इतनी संपत्ति मैंने कैसे जमा की
और इसके बारे में अब तक
किसी को बताया क्यों नहीं.

अपने का सपना
ये आंकड़ों का खेल भी बहुत निराला होता है न!
अब जीवन में उस मुकाम तक आ पहुंची हूँ जहां से आगे का रास्ता सीधा है। ..... चलना तो अकेले ही है। ... कोई आगे निकल गए कोई पीछे  छूट जाएंगे। ...
खुद को व्यस्त रखती हूँ। ...ताकि खुद मुझे मुझसे कोई शिकायत न रहे। ... मेरे मन ने कुछ लिखा है पढ़ो --

वो लड़का ~1
एक कोने में
वो उन्हें लेकर
अपनी हथेली में
सुबकता है रात भर
सुबह उठकर
फिर जीने लगता है
कुछ और बोझिल साँसें
होठों पे मुस्कराहट के साथ
वो लड़का बहुत शातिर है !!


आज बस इतना ही...
हर तरफ 500 व 1000 नोट   की ही  चर्चा है....
पर हमे प्रतीक्षा है....अंक पांच सौवें अंक की...
धन्यवाद।


5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात...
    ''इंसान ने वक़्त से पूछा...
    "मै हार क्यूं जाता हूँ ?"
    वक़्त ने कहा..
    धूप हो या छाँव हो,
    काली रात हो या बरसात हो,
    चाहे कितने भी बुरे हालात हो,
    मै हर वक़्त चलता रहता हूँ,
    इसीलिये मैं जीत जाता हूँ,
    तू भी मेरे साथ चल,
    कभी नहीं हारेगा............."
    हम भी बिना रुके चल रहे हैं....
    उम्दा पंक्तियाँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप सभी चर्चाकारों की मेहनत को सलाम। हमें भी इन्तजार है कल छपने वाले 500 के नोट का । शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. किसी कवियत्री ने कहा था "चरैवती-चरैवती" यही जिंदगी है। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया लिंक है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सबसे पहले पाँच सौवेँँ अंक के लिए हार्दिक अभिनन्दन यशोदा जी । सभी रचनाएँ अच्छी हैं ।मेरी रचना को स्थान देने के लिए ह्रदय से आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...