पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 26 नवंबर 2016

498 .... बदलाव / परिवर्तन





सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

जब तक हम 500 पोस्ट बना पाते
500 में फेरबदल हो गया
जी भर हँसाया रुलाया 500

भगनी की शादी थी .... मामी को कई जगहों पर पैसे देने होते हैं ...
एक 500 की जगह 100 - 100 का 5 नोट देना अच्छा लगता था :P

आज ब्लॉग पर बहुत दिनों के बाद आई तो रूप-रेखा बदला बदला सा लगा
बदलाव बेहद जरूरी होता है .... रुके पानी में काई जम जाता है

क्षण
स मांगे
धैर्य धागे
शौर्य स्रग्धर
दिवा निशा जागे
किलका बदलाव 
गौं
खलु
कालाग्नि
नोटबंदी
चोट आतंकी
जिच्च दिवातन
   असु परिवर्तन


जिच्च=शतरंज के खेल में वह स्थिति जब एक पक्ष के खिलाड़ी को कोई मोहरा चलने की जगह नहीं बचती






बदलते रहने से चीज़े जो मन पर असर करती है सही दिशामें हो तो मन को सही सोच है मिलती फर्क हमें नहीं रुलाता गलत सोच रुलाती है 
जब जब गलत सोच से कोई फर्क जीवन पर असर करता है वह जीवन पर हमेशा गलत असर करता है बदलाव जीवन पर जरूर असर करता है 






वो रात के चमकते हुए सितारे हों.
या दिन में तपता हुआ सूरज. 
वो सुबह की मखमली ओस हो. 
या आसमान से गिरती बारिश.






कौन प्रखर कर पाता
बीते पल  सुमधुर यादों के
शायद विस्मृत हो जाते
परिवर्तन नकार के पन्ने






दुनियां में बदला का ख्याल 
अच्छा लगता है
पर हर सोच पर झगड़ा बढ़ता  है
जिदंगी को अपनी राह पर
अपनी गति 
से चलने दो
सिखाओ लोगों को आंख से देखना
कान से सुनना 
दिमाग से 
सोचना








अब बदलाव ज़रुरी है, बदलने ये रिवाज है,
अरे यही तो बदलते दौर की गूंजती आवाज़ है.

अब तो कह दो वतन के दुश्मनों को ललकार कर,
अगर वो हैं नाग जहरीला तो हम भी भयंकर बाज हैं




फिर मिलेंगे ..... तब तक के लिए

आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव






2 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    अब बदलाव ज़रुरी है,
    बदलने ये रिवाज है,
    अरे यही तो
    बदलते दौर
    में सहन शक्ति
    की पहचान भी है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...