पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 19 अक्तूबर 2016

460..राम ही राम हैं चारों ओर हैं बहुत आम हैं रावण को फिर किसलिये किस बात पर जलाया

सादर अभिवादन
हड़ताल खतम हो गई नेट की
कल भाई कुलदीप जी आएँगे

आज की मेरी पसंदीदा  रचनाएं......


जहाँ भी उम्मीद की छाया दिखती है
साँकल खटखटा ही देती हूँ
सोचती हूँ एक बार
खटखटाऊँ या नहीं
लेकिन अब पहले जैसी दुविधा देर तक नहीं होती
उम्र की बात है - !


बहुत सहन कर चुकी
अब मत बांधो मुझे
मत करो मजबूर
इतना कि तोड़ दूँ
सब बंधन
मत कहना फिर तुम
विद्रोही हूँ मै



तुम बाग़ लगाओ, तितलियाँ आएँगी
उजड़े गाँव नई बस्तियाँ आएँगी

जिन चेहरों सूखा, आँख में सन्नाटा
बादल बरसेंगे, बिजलियाँ आएँगी


ऐसे बेहोशी में बीत रहे हैं. आज दूध देर से आया था, दोपहर को गैस पर रख कर भूल गयी. जून को लंच के बाद बाहर तक छोड़कर आई तो दूध चूल्हे से उतारने के बजाय कम्प्यूटर के सामने बैठ गयी और पतीला बुरी तरह से जल गया. देखें कितना साफ होता है, 


युद्ध से नहीं बचायी जा सकती है दुनिया
युद्ध से बचाया जा सकता है हथियार
युद्ध से बचाया जा सकता है अधर्म
युद्ध से बचाया जा सकता है अन्धापन

उल्लूक टाईम्स का विलंम्बित समाचार
आज तक किसी चर्चाकार की निगाह नही पड़ी

सामने खड़ी सारी 
जनता से उनकी 
खुद की 
रिश्तेदारी मिली 
और रावण बेचारा
सोच में पड़े 
खड़ा रह पड़ा 
किसलिये और 
किस मुहूर्त में 
राम के साथ 
रामराज्य की ओर 
ऊपर से नीचे 
एक बार और 
अपनी जलालत 
देखने निकल पड़ा ? 
........
आज्ञा दें यशोदा को
फिर मुलाकात होगी
सादर




6 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर बुधवारीय हलचल प्रस्तुति। कुलदीप जी का नेट जल्दी स्वश्थ्य होवे । आज के पाँच सूत्रों में 'उलूक' के एक पुराने सूत्र 'राम ही राम हैं चारों ओर हैं बहुत आम हैं रावण को फिर किसलिये किस बात पर जलाया'को जगह देने के लिये आभार यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर सूत्र संकलन..बहुत बहुत आभार मुझे भी शामिल करने के लिए..

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभप्रभात आप सभी को...
    पहाड़ी क्षेत्र में रहने वालों की अनेकों समस्याएं हैं...
    औरों के लिये हो न हो...
    मेरे लिये तो नैट का हड़ताल पर जाना...
    सब से बड़ी समस्या है...
    अगली हड़ताल तक मैं फिर उपस्थित हूं...
    सुंदर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. रेखा जोशी की कविता - 'मैं तो बस अपना हक़ मांग रही हूँ' और सुशील यादव की कविता - सफ़र में' अच्छी लगीं.

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...