पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 7 अक्तूबर 2016

448...सेना पर शक करना मेरी दृष्टि में सबसे बड़ा देशद्रोह है

जय मां हाटेशवरी...

*एक स्त्री के पूरे जीवनचक्र का बिम्ब है नवदुर्गा केनौ स्वरूप।*
1. जन्म ग्रहण करती हुई कन्या *"शैलपुत्री"* स्वरूप है।
2. कौमार्य अवस्था तक *"ब्रह्मचारिणी"* का रूप है।
3. विवाह से पूर्व तक चंद्रमा के समान निर्मल होने से वह *"चंद्रघंटा"* समान है।
4. नए जीव को जन्म देने के लिए गर्भ धारण करने पर वह *"कूष्मांडा"* स्वरूप में है।
5. संतान को जन्म देने के बाद वही स्त्री *"स्कन्दमाता"* हो जाती है।
6. संयम व साधना को धारण करने वाली स्त्री *"कात्यायनी"* रूप है।
7. अपने संकल्प से पति की अकाल मृत्यु को भी जीत लेने से वह *"कालरात्रि"* जैसी है।
8. संसार (कुटुंब ही उसके लिए संसार है) का उपकार करने से *"महागौरी"* हो जाती है।
9. धरती को छोड़कर स्वर्ग प्रयाण करने से पहले संसार में अपनी संतान को सिद्धि(समस्त सुख-संपदा) का आशीर्वाद देने वाली *"सिद्धिदात्री"* हो जाती है।
जिस देश में नारी को इतना मान-संमान दिया गया था...
उस देश में आज...
नारी पर अनेक प्रकार से शोषण हो रहा है...
ये केवल विदेशी संस्कृतियों का प्रभाव है...
जो हमे योग नहीं...
भोग की ओर ले जा रही है...
*माँ के नवरात्रि पर्व पर आप व आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाये एवम् बधाई।।*
*जयकारा माता श्री हाटेशवरी माता  जी का बोलो सच्चे दरबार की जय*
*माता रानी आपकी सभी मनोकामना पूर्ण करें - जय माता की🙏*

अब पेश है आज के लिये आप की लिखी  हुई...
मेरी पसंद...
...
देवी माँ का पंचम रूप – माता स्कंदमाता-
मोक्ष प्रदाता
चार भुजा धारिणी
माँ स्कंदमाता
वात्सल्यमयी
गोद विराजें स्कन्द
दिव्य आनंद
सिंहवाहिनी
पद्मासना संस्थिता
तेजोमयी माँ

ले लो पाकिस्तान
माँग रहा है देश अब, मोदी से उपहार।
विजयादशमी पर्व को, कर देना साकार।।
रावलपिण्डी-कराची, देती है आवाज।
कब्जा पाकिस्तान से, छोड़ो अरे नवाज।।
पूरा पाकिस्तान मिल, भारत बने महान।
अपने कब्जे में करो, फिर से पाकिस्तान।।

आवारो झोंकेः दो
आसमान में उड़ते बादल के दोस्त भी
बरस कर मिल जाते मिट्टी में
और एक बादल रह जाता है पीछे
हवा में झूमता
तन्हा है।

Rangoli designs - Part 2
दीपिका गोयल (कामठी)
पायल पाडिया (तेल्हारा)

सत्ता की भूख
ऐसे माहौल में किसी फिल्म की बात करना मौके की गंभीरता को कम करना लग सकता है पर यह बात सामयिक है। कुछ दिनों पहले एक फिल्म आई थी, "जमीन", जो हाईजैक हुए हवाई
जहाज के यात्रियों को बचाने के प्रयास पर फिल्माई गयी थी। फिल्म कैसी थी, अच्छी थी, बुरी थी, मुद्दा यह नहीं है, बात यह है कि उसमें भी एक ऐसे ही बड़बोले नेता
का चरित्र रचा गया था, जिसे जब कमांडो ऑपरेशन में सम्मिलित होने को कहा जाता है तो उसकी धोती ढीली हो जाती है। क्यों नहीं ऐसे प्रमाण-इच्छुक लोगों को भविष्य
में होने वाले किसी "सफाई अभियान" में जबरन शामिल कर उन्हें वातानुकूलित कमरे और प्राकृतिक सरहद का भेद समझा दिया जाए।

सेना पर शक करना मेरी दृष्टि में सबसे बड़ा देशद्रोह है
यूरोप में स्थित 28 देशों के सांझा राजनैतिक एवं आर्थिक मंच यूरोपियन यूनियन की संसद ने मोदी सरकार और भारतीय सेना द्वारा सीमा पार में आतंकियों के खिलाफ की
गई सर्जिकल स्ट्राइक यानि सैनिक कार्रवाई की न सिर्फ सराहना की है, बल्कि ऐसी कार्यवाही को अपना पूरा समर्थन भी दिया है. यूरोपीय संसद के उपाध्यक्ष रिजर्ड जैनकी
ने कहा है कि इससे एक स्पष्ट संदेश गया कि भारत सीमा पार से आने वाले आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं करेगा. यूरोपीय संसद की मासिक पत्रिका में उन्होंने यहाँ तक कह
दिया है कि यदि पाकिस्तान की ओर से निकल रहे आतंक को रोका नहीं गया तो, जल्द ही पश्चिम भी इसका निशाना बन जाएगा. अभी भी कई पश्चिमी देश दिनोंदिन बढ़ रहे आतंकवाद
के शिकार हो ही रहे हैं.
आज बस इतना ही...
अंत में एक छोटी सी कहानी...

मेरे देश में रहकर मेरे देश को गाली देने वालों के लिए...

धन्यवाद...

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति कुलदीप जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    जय माता दी
    बहुत खुबसूरत प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक स्त्री के पूरे जीवनचक्र का दुर्गा के नौ स्वरूप में वर्णन अच्छा लगा। मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नवदुर्गा स्वरूप वर्णन बहुत सटीक है ..
    सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल भाई कुलदीप जी ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार ! विलम्ब के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ ! मेरे ब्लॉग पर सूचना न होने से मुझे पता ही नहीं था कि मेरी प्रस्तुति को आपने शामिल किया है !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...