पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 27 अगस्त 2016

407 .... शनिवार 27 अगस्त 2016




सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


शनिवार मेरा खुद से चयनित दिवस है
क्यूँ ना इस बार शनिवार को पोस्ट हुए ही
सारे के सारे पोस्ट पढ़े जाएँ






आज कब आओगी ।
और  क्या पकाओगी ?
और सूखी लकड़ियों ने
ख़ुशी मनाई ।
आज वह जलने से ,
बच गयीं  ।







"भला कलयुग में सत्य का क्या काम?", उसने गुहार लगाया 
और  दिये  को  न्याय की तराजू में बैठने को मजबूर कर  दिया.
"सम्पूर्ण सृष्टि जब आकंठ कलयुग में समायी हुई है तो 
फिर सतयुगी प्रतीक का क्या औचित्य, यदि न्यायधीश हैं 
तो पट्टी हटा मेरे अस्तित्व को चुतौती देने वाले को सजा दें  ?"






गरीबी और अशिक्षा का सीधा असर रोजगार पर पड़ता है
और सरकारी नौकरियों में उनका बहुत कम प्रतिनिधित्व है.
इस समुदाय के अधिकांश लोग स्व-रोजगार से जुड़े हैं
और यह स्व-रोजगार भी उनके लिए "जैसे-तैसे पेट भरने" का माध्यम भर होते हैं,
 उनकी आर्थिक उन्नयन का माध्यम नहीं. यही कारण हैं कि 
मुस्लिमों में बेरोजगारी दर ग्रामीण क्षेत्रों में 3.9% तथा शहरी क्षेत्रों में 2.6% है.







मेरा बेटा कभी हार मान ही नही सकता,
क्योंकि उसे तो दुनिया की हर एक ख़ुशी,
मेरे इस आँचल में ला कर डालनी है ना।
तुम खुश हो तो खुश हूँ मैं, ये सिर्फ एक माँ कहती है,
मैं कहता हूँ, माँ साथ है तो हर जंग में जीत पक्की है,






फल वाला – ठीक है. 80 के 8 ले लो
लड़की –
.
.
.
.
थैंक यू सो मच भैया दे दो😆😆😆😆😆😆






एक स्त्री बुन लेती है कविता 
पुराने कपड़े की सीवन उधेड़ते हुए 
घूम आती है चाँद पर 
रसोई में गोल- गोल रोटियाँ बनाते हुए

एक स्त्री कल्पनाओं के शहर में 
स्वर्ग बना लेती है अपना 
और जी लेती है अनकहे ... अनगिनत खूबसूरत लम्हे 





ढेर सारी बधाईयाँ पाकर
खुशह हो जाया करते हैं...
जब बहुत सारे लोग करते हैं विश हमें
जन्मदिन तो है ही सबका कोई ना कोई दिन 
मगर हर दिन को खुशियों से जी लें 
अपनी समस्त जिम्मेवारियों के बावजूद 
अपने तमाम दुखों और पीडाओं के बाद भी 
तो दोस्तों...इस जीवन का कोई अर्थ है...
है ना दोस्तों मेरे प्यारे दोस्तों....
तो आज मेरे जन्मदिन से 



फिर मिलेंगे ..... तब तक के लिए

आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव

5 टिप्‍पणियां:

  1. चरण स्पर्श दीदी
    पसंद आई आज की प्रस्तुति
    सच में
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर नये तरीके से पेश की गई आज की हलचल ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छा लगा नए अंदाज में हलचल प्रस्तुतिकरण ...... धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति
    यादे ताजा कर दि

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर लिंक संयोजन
    मेरे ब्लॉग को सम्मलित किया आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...