पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 26 अगस्त 2016

406....आज का यह पृष्ठ कृष्ण मय हो गया है

सादर अभिवादन..

भगवान श्री कृष्ण का जन्म आधी रात को 
भारी बारिश के बीच हुआ
सब ताल-तलैया नदी-नाले लबालब थे
ऐसे में वसुदेव जी भगवान को सूप में रखकर
जमना जी को पार किए..
सोचिए प्रभु की लीला...कितनी न्यारी
आज का यह पृष्ठ कृष्ण मय हो गया है

भाई कुलदीप जी आज लौटेंगे दिल्ली से
आज मेरी पसंद....

सुनो राधा तुम हो हमरी नजरिया 
तुम्ही को सोचूं मैं सुबह शामरिया 
कैसे तुमको बताऊँ कैसे ये समझाऊँ 
जल्दी ही आऊंगा मैं वृन्दावन नगरिया 
जबसे हुआ है तुमसे प्यार ओ कन्हैया.

मथुरा को पहले मधुपुरी भी कहा जाता था। कहते हैं, इसे मधु नामक दैत्य ने बसाया था। 
कालांतर में यह शूरसेन राज्य की राजधानी बनी और उसी 
वंशानुक्रम में उग्रसेन के आधिपत्य में आयी। 


जपे राधा जपे मीरा ,,दिवानी वो कन्हैया की ,,
कभी यमुना किनारे पर कभी डारन बसैया भी ,,
कभी गोपी रिझाये वो, कभी ममता सताये वो ,,
गजब धेनू चरैया वो ,,वही मुरूली बजैया भी ||

जन्मे कृष्ण कन्हैया..............कंचन प्रिया
ए बुआ आओ ज़रा काजल लगाओ
नज़र ना लग जाये भईया
जन्मे कृष्ण कन्हैया


कविता की मौत........धर्मवीर भारती 
याद आती है मुझे
भागवत् की वह बड़ी मशहूर बात
जबकि ब्रज की एक गोपी
बेचने को दही निकली,
औ' कन्हैया की रसीली याद में
बिसर कर सुध-बुध
बन गई थी खुद दही.
और ये मासूम बच्चे भी,
बेचने जो कोयले निकले
बन गए खुद कोयले
श्याम की माया

प्रलय... डॉ. जेन्नी शबनम
नहीं मालूम कौन ले गया
रोटी को और सपनों को
सिरहाने की नींद को
और तन के ठौर को
राह दिखाते ध्रुव तारे को

........
कल जन्म तो हो गया
गोकुल में आज धूम मची है
खील-बताशे
दूध-दही-माखन
लूटा व बांटा जा रहा  है
और रायपुर में
दही-लूट के लिये टोलिया सज-संवर रही है
आज्ञा दें यशोदा को..
इसे तो कल देना था खैर..
सादर














4 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ी ही उत्तम श्री कृष्ण मय चर्चा
    मुझे स्थान देने के लिए सादर धन्यवाद
    जय श्री कृष्ण

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    बहुत सुंदर
    हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर कृष्ण मय हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...