पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

गुरुवार, 18 अगस्त 2016

398..एक रंग से सम्मोहित होते रहने वाले इंद्रधनुष से हमेशा मुँह चुरायेंगे

सादर अभिवादन स्वीकार करें...
सभी भाई-बहनों को रक्षा-बंधन की शुभ कामनाएँ


देवी जी निमग्न है किचन में
आज भाईयों व ननदों के
आगमन की प्रतीक्षा में..

आज की पसंद मेरी ही सराहना कर रही है.....

हे भारत
आज तुम बिलकुल अकेले हो,
इस महाभारत के रण में,
न कृष्ण है
न अर्जुन,
न धर्मराज,
आज विदुर भी,
तुम्हारा हित नहीं चाहता।


हाल ही में सोनू निगम ने अपने फैंस को तब हैरान कर दिया, जब वह मुंबई की सड़कों पर लगातार तीन घंटे तक भिखारी के भेष में गाना गाते रहे और उन्हें कोई पहचान ही न सका. इस दौरान एक लड़के ने कुछ पैसे उनके हाथ में थमाए और उनसे खाना खाने को कहा. सोनू के मुताबिक ‘‘ये अनुभव बेहद अभिभूत कर देने वाला था. इससे मुझे काफी कुछ हासिल हुआ और लगा कि जिंदगी की सबसे बड़ी सौगात मिल गई हो.’’



" बीबी जी, दूध वाला घी का डिब्बा दे गया है। " " अच्छा ! मांजी को पता तो नहीं चला ना ? " " नहीं , मैंने उसे रात को ही लाने का कहा था ! " " माँजी भी कमाल की हैं। दूध वाले से दूध,खोया और पनीर सब लेते हैं पर घी में ना जाने क्यों उनको बदबू आती है ? कहती है घी या तो मिलावटी है या कच्ची क्रीम से बनाया गया है। पिछली बार तो वापस करवा दिया था लेकिन बार मैं भी देखती हूँ कि उनको कैसे पता चलता है,



यहाँ तक खींच लाईं
विविध रंगों की झांकी
देख आँखें नहीं थकतीं
मन लौटने का न होता
वहीं ठहरना चाहता


सबने कहा 
अब जाकर मैंने गाया 
अपने जीवन का सबसे सुंदर गीत 
दरअसल वो 
मेरा मौन रूदन था 
छलनी दि‍ल से नि‍कलती धुन 
जो कहलाया दुनि‍या का सुंदरतम गीत 



पूछती है सवाल
अक्सर
मेरी तन्हाईयाँ
मुझसे
गुनगुनाती जब
धूप आँगन में


समय भूल जायेगा 
तुझे और मुझे 
फिर हर खेत 
में कबूतरों की 
फूल मालाऐं 
पहने हुऐ रंग बिरंगे 
पुतले नजर आयेंगे 
पीढ़ियों दर पीढ़ियों 
के लिये पुतलों पर 
कमीशन खा खा कर 
कई पीढ़ियों के लिये 
अमर हो जायेंगे 
......
आज्ञा दें दिग्विजय को
सुनिए ये गीत




7 टिप्‍पणियां:

  1. ढ़ेरों शुभकामनाओं संग शुभ प्रभात
    उम्दा प्रस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात जीजाजी
    बढ़िया रचनाएँ
    कहाँ ले ले आते हैं आप
    मुझे इस तरह की रचनाए
    नज़र ही नही आती...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आशा जी की आवाज में एक सुन्दर राखी गीत के साथ प्रस्तुत सुन्दर हलचल । आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के एक साल पुराने पन्ने 'एक रंग से सम्मोहित होते रहने वाले इंद्रधनुष से हमेशा मुँह चुरायेंगे' को आज की हलचल में जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अतिसुंदर..
    आभार सर आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर
    प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. उम्दा प्रस्तुति |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...