पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 17 अगस्त 2016

397...यदि सच में स्वाभिमान है तो सीता बनो

सादर अभिवादन..
मास श्रावण
विदा लेने के तत्पर
महिलाओं के व्रत-त्योहार का मौसम 
बस आने को है.

आज मेरे द्वारा चयनित रचनाएँ...


विश्वेश्वराय नरकार्णवतारणाय 
कर्णामृताय शशिशेखरधारणाय। 
कर्पूरकांतिधवलाय जटाधराय 
दारिद्रयदुःखदहनाय नमः शिवाय 


रह गई पुष्पा स्तब्ध  
है कैसा ये परिवार  
करते हैं व्यंग 
हर बड़ी छोटी बात में 
क्या अभी अभी 
मेरे शादी के बाद 
राखी प्रचलन में आया है 
मेरी माँ भी मामा को राखी बांधना शुरू कर दी थीं
बोलना चाहती थी पुष्पा
पर...
आवाज घूंट कर रह गई 
कहीं शाखें चरमरा गई 


फिर किसी अखबार ने छापी खबर,
लाज को लूटा गया है रात-भर।
दुष्ट दुर्योधन बिठाने फिर लगा,
सभ्यता को अपनी नंगी जांघ पर।
आबरू कोई न अब बेजार हो,
नौजवानो! तुम उठो ललकार कर।

मीठे सोच हमारे, स्वारथवश कड़वाहट धारे
भइया का दुश्मन अब भइया घर के भीतर है।

इक कमरे में मातम, भूख गरीबी अश्रुपात गम
दूजे कमरे ताता-थइया घर के भीतर है।

ओह ...मैडम
झुकते-झुकते गिरीं
उड़ते-उड़ते बिखर गईं ज़ुल्फें ...
कोई इतनी तारीफ न करे रब्बा ! बैक स्टेज गईं ...
ब्रा हटा के कोई बार-बार मूँछें टांग जाता है स्क्रीन पर , हटाओ यार !


आज की शीर्षक रचना....
कलयुग में सबने सीख दी - "सीता बनो"
यह सुनकर 
स्त्री या तो मूक चित्र हो गई 
या फिर विरोध किया 
"क्यूँ बनूँ सीता ?
राम होकर पुरुष दिखाये !"
........
आज्ञा दें यशोदा को..
कल नहीं आउँगी मैं
मास श्रावण का अंतिम दिन जो है
सादर..

5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात आप सभी को
    आभार यशोदा बहन
    सुपर्ब चयन

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात दीदी
    सुन्दर लिंको का
    चयन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात
    सस्नेहाशीष छोटी बहना
    आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...