पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 12 अगस्त 2016

392..किसी को भाए, न भाए कवि-हृदय कविता बनाए जा रहे हैं

सादर अभिवादन..
आज भाई कुलदीप के यहाँ
नेट का सर्वर डाऊन है
सो उनके पेज में मेरी पसंद......

खँडहर में कब तक रुकता 
आखिर आगे तो जाना ही है 
बिना छाया के हुआ बेहाल 
बहुत दूर ठिकाना है 
थका हारा क्लांत पथिक 
पगडंडी पर चलते चलते 
सोचने को हुआ बाध्य 
पहले भी वह जाता था 

उसने पास खड़े महावत से पूछा कि भला ये हाथी किस प्रकार इतनी शांति से खड़े हैं और भागने का प्रयास नही कर रहे हैं ? तब महावत ने कहा, ” इन हाथियों को छोटे पर से ही इन रस्सियों से बाँधा जाता है, उस समय इनके पास इतनी शक्ति नहीं होती की इस बंधन को तोड़ सकें। बार-बार प्रयास करने पर भी रस्सी ना तोड़ पाने के कारण उन्हें धीरे-धीरे यकीन होता जाता है कि वो इन रस्सियों नहीं तोड़ सकते,और बड़े होने पर भी उनका ये यकीन बना रहता है, इसलिए वो कभी इसे तोड़ने का प्रयास ही नहीं करते।”


बीते लम्हों को जी लेना मुश्किल है
पलकों से आँसू पी लेना मुश्किल है !

मीलों लंबे रेत के जलते सहरा में
नंगे पैरों चलते रहना मुश्किल है !  


दिल केले सा ख़ुद ही घायल हो जाता है
शब्दों से सीने पर चोट बनाते हैं हम

सिक्का यदि बढ़वाना चाहे अपनी कीमत
झूठे किस्से गढ़कर खोट बनाते हैं हम


कभी गोदी में छुपने की कभी घुटनों पे चलने की
मेरी चाहत है बचपन की सभी गलियों से मिलने की

सजाने को किसी की मांग में बस प्रेम काफी है
जरूरी तो नहीं सूरज के रंगों को पिघलने की


आज का शीर्षक..
रास्ते रास आए तो ऐसे.... राहुल उपाध्याय
रास्ते रास आए तो ऐसे
जैसे पिकनिक पे जा रहे हैं
न आए तो ऐसे
जैसे मय्यत में जा रहे हैं

आज्ञा दें दिग्विजय को..
सादर


13 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    सस्नेहाशीष छोटी बहना
    सार्थक प्रस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार कुलदीप जी मेरी प्रस्तुति को सम्मिलित करने के लिये ! सभी लिंक्स बहुत सुन्दर हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    सुन्दर लिंक पढ़ाने के लिए
    धन्यवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी लिंक बहुत सुंदर ... आज की ग़ज़ल की साथ ..
    आभार मुझे शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मनभावन लिंक संयोजन..
    आप सभी से सादर अनुरोध...
    रैकी आध्यात्मिक चिकित्सा पद्धति
    के बारे में विस्तृत चाहिए
    कृपया मुझे गूगल+ के माध्यम से प्रेषित करें
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. के बारे में विस्तृत चाहिए
    इस पंक्ति को इस तरह पढ़ें
    के बारे में विस्तृत विवरण चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर लिंक संयोजन |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर संकलन!! सम्मलित करने के लिए बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर संकलन!! सम्मलित करने के लिए बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. सभी लिंक बहुत सुंदर ...
    आभार मुझे शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...