पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 5 अगस्त 2016

385...कुछ पाने की तमन्ना में हम खो देते बहुत कुछ है


जय मां हाटेशवरी...

बुलंदशहर में एक महिला और उसकी नाबालिग बेटी से हुए गैंग रेप की घटना
खौफनाक, बर्बर अमानवीय  और  मानव मन को झकझोर कर रख देने वाली  घटना है...
इस लिये मन आज बहुत आहत है...
क्या कहूं...क्या लिखूं...
यही कह सकता हूं....
शायद राजतंत्र ही अच्छा था...
ऐसे जघन्य अपराध करने वालों के...
दोनों हाथ काट दिये जाते थे...

रेप पहले भी होते थे, आज भी होते हैं और शायद आगे भी होते रहेंगे, नेता और राजनेता अपनी राजनीति की रोटियां भी इस पर सेकते रहेंगे! सदन में हंगामा भी होता रहेगा,
कुछ अधिकारी निष्काषित भी होते रहेंगे लेकिन रेप भी होते रहेंगे और राजनेता हर तरह से ऐसे मुद्दों को भुनाते रहेंगे,लेकिन रेप फिर भी होते रहेंगे !
जी हाँ यही सच्चाई सी लगती है अब इस देश की जहाँ रेप जैसी घटनाएं देश के आज़ाद होने के ६९ वर्षों बाद भी कम होने का नाम नहीं ले रही हैं और बावजूद ऐसी घटनाओं के हमारे महान
नेतागण ऐसे मुद्दों पर भी अपनी राजनीति भुनाए बैठे हैं! पुलिस लापरवाह है, प्रशासन को कोई होश खबर नहीं है, सिर्फ परेशान है वो शख्स जिसके साथ यह दरिंदगी बीती है, जिसकी सुनने वाले तो बहुत लोग हैं लेकिन सिर्फ अपने अपने लाभ के लिए कोई भी शख्स उस पीड़ित के साथ तब तक खड़ा नहीं होता जब तक उसे उसमे अपने आप का लाभ नज़र
ना आए!

 हे मन
s640/download 
और सदा सत्य का हो जीवन में अनुसरण
सत्य की औषधि से हो पापों का प्रतिरोध
राष्ट्र जागरण धर्म हमारा रख ये याद
मन में न रहे अब तो कोई भी प्रतिशोध

गृहस्थी की धुरी पर संघर्षधर्मा स्त्री का दस्‍तावेज
कलम के संचालन की दक्ष मोनिका ने अपनी बातों को जिस प्रवाह के साथ लिखा है, उसे पढ़कर लगता है कि सधे सोच की सीधी-सपाट रेखाओं के रूप में इन कविताओं का सर्जन हुआ है। इसी के बरक्‍स फ्लैप पर अपने  वक्तव्य  में श्री नंद भारद्वाज ने लिखा है : कविताएं अपने पहले ही पाठ में सहृदय पाठक को अपने साथ बहा ले जाने की अनूठी क्षमता रखती है, अपने समय और समाज को लेकर कितना कुछ विलक्षण और विचारणीय कहने की समझ और सलीका है उनके पास।
सचमुच यह संग्रह गद्य का हुनर रखने वाली कलमकार के विचार का सुंदर वातायन है। यह समाज को एक विचार देने वाला है, नारी मन के कई भाव-अभाव भरे कलशों को छलकाता है और बहा ले जाता है पाठकों के मन को। गृहस्थी की धुरी पर अनगिनत दायित्वों को जीती स्त्री को लेकर ज़्यादा बात नहीं होती पर  उसका होना घर के हर सदस्य के जीवन को सम्बल देता है । सरल बनाता है । इसी अनकही  भावभूमि को लेकर उकेरी गयी ये कवितायें स्त्री मन की पीड़ा से गहरा परिचय करवाती हैं ।

कुछ पाने की तमन्ना में हम खो देते बहुत कुछ है
s400/page_final_rev_p2_05
कहने को तो कह लेते है अपनी बात सबसे हम
जुबां से दिल की बातो को है कह पाना बहुत मुश्किल
ज़माने से मिली ठोकर तो अपना हौसला बढता
अपनों से मिली ठोकर तो सह पाना बहुत मुश्किल

संवेदना की नम धरा पर'... आदरणीय आर एन शर्मा जी की नज़र से

" पर उस स्पर्श में वो स्निग्धता
कहाँ होती है माँ,
जो तुम्हारी बूढी उँगलियों की छुअन में
हुआ करती थी"
...
" मेरी अहमियत
तुम्हारे घर में,
तुम्हारे जीवन में
मात्र एक मेज या कुर्सी की ही है"
...
मोहब्‍बत बूंद है..
s400/DSC_0183%2Bcopy
मोहब्‍बत
पारदर्शी बूंद है
दूबों की नोक पर ठहरी
लि‍ए बेपनाह खूबसूरती

फुरस्तो का प्यार था हमारा....!!!
मैं हर लम्हे में तुम्हे जीती रही,
तुम फुर्सत से वक़्त निकालते रहे,
मैं तुम्हे ख्वाइशें अपनी बताना चाहती थी,
तुम्हारा हाथ थाम कही दूर,
निकल जाना चाहती थी,
तुम फुरस्तो में इन्हें टालते रहे है...
अब बस काफी  है...
आज के लिये...

और अंत में...

आरजूओं की आग में जल कर
और भी कुछ निखर गए हैं हम
जब भी हम को किया गया महबूस
मिस्ल-ए-निकहत बिखर गए हैं हम
शादमानी  के  रंग-महलों  में
"शाद" बा-चश्म-ए-तर गए हैं हम
धन्यवाद..














10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    बहुत ही बढ़िया
    सही व सटीक रचनाओं का चयन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमारे ब्लॉग से जुड़े http://hareshcm.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार कुलदीप जी मेरे काव्य संकलन 'सम्वेदना की नम धरा पर' की श्री आर एन शर्मा जी द्वारा लिखित समीक्षा को आज की प्रस्तुति में सम्मिलित करने के लिये ! सभी सूत्र बहुत सुन्दर हैं !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद...
      आप के ब्लौग पर मुझे टिप्पणी विकल्प नहीं मिला। इस लिये सूचना न दे सका।

      पुनः आभार।

      हटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bilkul sach kaha aapne..meri rachna ko sthan dene ke liye dhnyawad aur aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल को हिला देने वाली रचना...उत्तम विचार हैं आपके...
    और भी पढ़ें... bhannaat.com, मोबाइल जानकारी के लिए... digitechon.com

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...