पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 17 जुलाई 2016

366...समझने के लिये जरूरी नहीं होती है सारी उल्टियाँ

सादर अभिवादन
लगता है आज बारिश नहीं होगी
हमारे आज के सरदार

विरम सिंह इन पंक्तियां के लिखे जाने तक
नहीं दिख रहे...
आज की कुछ पढ़ी व अन पढ़ी रचनाओं के साथ..
उपस्थित हूँ...


क्या कर दिया....प्रीति जैन
मजाक ही मजाक मे तुमने क्या कर दिया।
जो जख़्म भरा था फिर हरा कर ...दिया।।
जरा कुछ देर ठहर सोचा तो ...होता।
हृदय के तराजू मे खुद तोला तो होता।।
चाहने वालो ने  खुद को फ़ना कर दिया।
मोम के पुतले सा फिर खड़ा कर दिया।।



तेरे पहलू में सर छुपा ले तो क्या हो
इस जहाँ को शमशान बना दे तो क्या हो
जी नहीं सकते इक पल भी तुम बिन
तुझे इस जहाँ से चुरा ले तो क्या हो



नभ में उड़ने की है मन में, 
उड़कर पहुँचूँ नील गगन में।

काश, हमारे दो पर होते, 
हम बादल से ऊपर होते।

ऐ चांद ! 
मेरे महबूब से फ़क़्त इतना कहना... 
अब नहीं उठते हाथ 
दुआ के लिए 
तुम्हें पाने की ख़ातिर... 

जब भी होता है, दर्द दवा लेता हूँ
हर बार सच को छुपा लेता हूँ।

खड़ा रहता हूँ, तमाशाई बनकर
चुप रहता हूँ, जुर्म को हवा देता हूँ।

“ बिटीया!!! ज़रा अब्बू का पाजामा एक बालिश्त छोटाकर देना 
सुबह को ईद है”
ईद की सुबह. अब्बू फज्र की नमाज़ से फारिग हो 
अपना लिबास बदलने की तैय्यारी करते करते चिल्ला रहे थे “ अरे लड्कियों! मशीन पर रखी ग्रे चड्डी के  नीचे उसी रंग का पाजामा रखा था !!! क्य तुम में से किसी ने उसे देखा है??? “

समंदर ने तुम से क्या कहा 
इस्तिग़ासा के वकील ने तुम से पूछा 
और तुम रोने लगीं 

और अंत में एक कल के ताजे अखबार की कतरन
समझने के लिये जरूरी नहीं होती है सारी उल्टियाँ
जरूरी नहीं 
होता है होना 
हर किसी के 
पास रीड़ का 
अच्छा होता है 
सरकना साँप 
की तरह 
फूँकते हुए हवा 
में अपनी 
अच्छाइयाँ ।

अभी रात के दो बजे हैं..
सुबह पाँच बजे ये प्रस्तुति आप पढ़ेंगे


आज्ञा दें कल फिर मिलते हैं
दिग्विजय..




4 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    सादर प्रणाम
    असुविधा के लिए खेद है
    कल प्रस्तुति लेने बैठा तो अचानक नेट चलना बंद हो गया । किसी ब्लॉग पर सुचना नही दे पाते रहा था।
    माफी चाहता हू

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर रविवारीय अंक दिग्विजय जी । आभारी है 'उलूक' सूत्र 'समझने के लिये जरूरी नहीं होती है सारी उल्टियाँ' को शीर्षक देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतुआभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी लिंक्स एक से एक अच्छे। सन्दर लिंक्स के चयन के लिए
    चर्चाकार मित्रों को बधाई एवं शुभकामनाएं।
    आनन्द विश्वास

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...