पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 6 जुलाई 2016

355...मर जाना किसे समझ में आता नहीं है...

सादर अभिवादन
आज रथयात्रा है..पर ईद आज नहीं है
आज ही के दिन पाँच लिंकों का आनन्द का
पहला अंक प्रकाशित हुआ था
पंचाग के अनुसार..पर
अंकों के आधार पर अभी दस दिन शेष हैं

वर्षांत अंक कैसा हो..और क्या हो 
इस अंक में ये प्रश्न मैं 
आपकी अदालत में रखती हूँ

बहरहाल देखिए आज की पसंदीदा रचनाएँ...



" तुम खुदा से मांगों तुम्हारी जान बख्श दे शायद ,,
मुझे मेरे ईश्वर पर पूरा भरोसा है ...

दर्द से विक्षिप्त हूँ फिर विश्व का दर्द भी
पात पर अटकी है हर घड़ी यह जिंदगी

न है इस्लाम खतरे मेंन हैं श्री राम खतरे में
तुम्हारे शौक़ में, इंसानियत, इंसान खतरे में ! 
पेड़ का दर्द... साधना वैद
अभी तो खड़ा हूँ
अभी तो हरा हूँ  
अनगिनत पंछियों का
बसेरा खरा हूँ  !



रिमझिम बरसे मेघ है....रेखा जोशी
आसमाँ गरजता मेघ घटा घिरी घनघोर
रास रचाये दामिनी  मचा रही  है शोर 



आप से अब कोई गिला भी नहीं..
और कोई हमें मिला भी नहीं..!


ये है "पाँच लिंकों का आनन्द"  के प्रथम अंक में प्रकाशित रचना
मरने की बात 
कोई भी मरने वाला 
किसी भी जिंदा 
आदमी को 
मगर कभी भी 
बताता नहीं है ।

आज बस इतना ही...
आज्ञा दीजिए यशोदा को



ज़िन्दगी की न टूटे लड़ी
प्यार कर ले घड़ी दो घड़ी




6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति । आभारी है 'उलूक' धूल खा रहे एक सूत्र को झाड़ पोछ कर यहाँ फिर से सजा देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति
    पाँच लिंकों के आनन्द का एक वर्ष पूर्ण होने पर हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार दीदी
      ऩहीं हुआ है साल पूरा अभी
      365 वें अंक मे होगा पूरा
      366 वां अंक नव वर्षांक होगा
      सादर

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर सार्थक सूत्रों से सजी आज की आनंदानुभूति ! एक सफल आनंदवर्धक वर्ष के पूर्ण होने की दिशा में अग्रसर होने के उपलक्ष्य में अग्रिम शुभकामनायें ! मेरी प्रस्तुति को आज सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. OnlineGatha One Stop Publishing platform From India, Publish online books, get Instant ISBN, print on demand, online book selling, send abstract today: http://goo.gl/4ELv7C

    उत्तर देंहटाएं
  5. रचना के सम्मान के लिए अाभार अापका यशोदा जी ....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...