पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 29 जून 2016

348..मर्म धर्म का खो गया, खोया आपस का लाड़

सादर अभिवादन

समय सदा गढ़ता रहा, 
कर दुःखों के वार।
हँसकर हम सहते रहे, 
तब पाया सत्कार॥
-अनिता

चलिए चलते हैं आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर...
ये है तो नया ब्लॉग पर रचनाकार पुराने हैं
वर्डप्रेस में लिखते हैं अभी भी
यादें के नाम से यह ब्लॉग आज ही दिखाई पड़ा
पहली बार


पुष्पेन्द्र सिंह..
जीत जाने का हार जाने का
किसी को पाने का
खुद के टूट जाने का
फरेब और प्यार
विश्वास और घात
इसके कारण नहीं होते
ये तो बस माध्यम ही है.............



'वाॅव!!! डायमंड सेट! यह मेरे लिए है?'
'हां मेरी जान! तुम्हारे लिए।'
'लेकिन आज तो कोई सालगिरह नहीं है?'
'तुम्हें गिफ्ट देने के लिए मुझे किसी दिन की जरूरत थोड़े ही है। यह तुम्हारे लिए है 
और हां आज दिन भर मैं तुम्हारे साथ ही हूं।' रोहन ने लीना के गालों पर अपना हाथ रखते हुए कहा।
'अरे वाहहह! आज दिन भर तुम मेरे साथ हो! यह तो इस डायमंड सेट से भी बड़ा गिफ्ट है मेरे लिए।' 

जो 'लाई' फाँका किये, रहे मलाई चाट |
कुल कुलीन अब लीन हैं, करते बन्दर-बाट ||

दूध फ़टे तो चाय बिन, दिखे दुखी सौ शख्स।
गाय कटे तो दुख कहाँ, दिया कसाई बख्स ||


न जाने क्यों 
लौट आती हैं 
बार बार ज़हन में, 
किसी चलचित्र की तरह 
तैरने लगती हैं आँखों में, 
बचपन की अठखेलियाँ, 
छुटपन के दोस्त/सहेलियाँ , 
अल्हड़ सा यौवन , 
अनसुलझी पहेलियाँ ! 
याद तो होगा तुम्हें भी !! 

बरसा तो खूब जम कर शब भर पानी 
फिर भी तिश्नगी लब पर छोड़ गया है

गुल पत्ते बूटे शाख शजर हैरां हैरां से 
ये कौन हमें बे मौसम झिंझोड़ गया है

कुछ कमियाँ ...
कुछ नादानियाँ रही होंगी

कुछ भरोसे की ...
तो कुछ आशाओं की बात रही होगी

आज की अंतिम रचना
कुछ यूँ है..
मन धरती पर हैं उगे, संदेहों के झाड़।
जब छोटी सी बात भी, बनती तिल से ताड़।

मर्म धर्म का खो गया, खोया आपस का लाड़
अब आगन्तुक को मिलें, घर के बंद किवाड़॥

रचनाकार है... सुजानगढ़, राजस्थान की
-अनिता मंडा

इसी के साथ आज्ञा दीजिए
कल बारिश हो गई (संजय भाई आ गए)
तो नहीं आऊँगी
सादर..



6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. 100 प्रतिशत सही भविष्यवाणी
    कल बारिश जरूर होगी...
    और मैं न...रविवार को ही मिलूँगी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर लिंक संयोजन यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...