पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 23 जून 2016

342...संगमरमरी फर्शों पर ही,पाँव फिसलते देखे हैं !


सादर अभिवादन
भाई संजय आज नहीं हैं
नेट की शिकायत कर रहे थे
पर आनन्द को आना है
सो आएगा ही....

हंसराज सुज्ञ....
करत करत अभ्यास के और जड़मति होत सुजान!!
तब संत ने उसे समझाया, "यदि इसी तरह उसे पानी में निरंतर डालते रहोगे,
तो कुछ ही दिनों में ये बांस के तानेबाने फूलकर छिद्र बंद हो जाएंगे और तुम टोकरी में पानी भर पाओगे।
 इसी प्रकार जो निरंतर सत्संग करते हैं, उनका मन एक दिन अवश्य निर्मल हो जाता है,
अवगुणों के छिद्र भरने लगते हैं और टोकरी में गुणों का जल भरने लगता है।"


आस  उड़ेलती ,
रंग पलाश सी ,
आज  …,
झर झर  बरसती है कविता !!
यूँहीं कुछ बोलती है कविता !!

प्रेम हो ललकार हो या वेदना का संग
साधना की तूलिका ने भर दिये सब रंग।।


वो गुजरा जमाना जो हम तुम मिले थे है 
बीता फ़साना जो हम तुम मिले थे| 
बदलना अँगूठी को इक दूसरे से 
वो दिन था सुहाना जो हम तुम मिले थे| 



आज की शीर्षक रचना...

बड़े बड़ों के,सावन में अरमान मचलते देखे हैं 
सावन भादों की रातों, ईमान बहकते देखे हैं !

गर्वीले, अय्याश, नशे में रहें , मगर ये याद रहे  
संगमरमरी फर्शों पर ही,पाँव फिसलते देखे हैं !


भाग रही हूँ..
सुबह के पाँच बजे हैं अभी
आज्ञा दें
यशोदा



10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    तूफांन और वर्षा का अंदाजा
    पशु-पक्षियाों को पहले ही हो जाता है
    ठीक उसी तरह भाई संजय जी आदतोंं को स्मरण रखते हुए
    इस प्रस्तुती को कल ही बना ली थी
    बस सूचना देने का काम इसके प्रकाशन पश्चात
    आज अभी की हूँ....
    भाई संजय जी की नासमझी के लिए मैं क्षमा चाहती हूँ
    सादर
    यशोदा

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी रचनाएं पढ़वाने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर रचनाओं से सुरभित सुसज्जित आज की प्रस्तुति ! मेरी पुस्तक, 'सम्वेदना की नम धरा पर' की समीक्षा को सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  5. कल कंपनी के काम से दम्माम (सउदी अरब का एक शहर) जाने का मौका मिला
    वैसे तो कई बार जा चुका हूं लेकिन कल की कुछ खास बात याद रह गई ...
    भूख तेज लगी थी सोचा कुछ खा लेते है भीड़भाड़ के इलाके में एक पाकिस्तानी चाचा के होटल पर रुके, ..
    टूटी कुर्सियां और पुराने गिलास होटल की माली हालत बयां कर रहै थे, खैर भूख मिटानी थी सो बैठ कर अपने खाने के ऑर्डर का इंतजार करने लगे.
    अचानक से नजर होटल के बोर्ड पर पड़ी उर्दू में कुछ लिखा था, जब गौर से पढा तो इसका मतलब समझ में आया होटल सस्ता और गरीब जरूर था मगर उस चाचा जैसी सोच 5 स्टार होटलों में भी नहीं मिलती

    लिखा था !!.
    खाना उतना ही ऑर्डर करो जितना खा सकते हो रोटियों पर अपनी अमीरी ना दिखाऔ
    याद रखो जो तुम्है मिला है कितनों को तो वो भी मयस्सर नहीं, ...
    अगर अमीरी ही दिखानी है तो किसी गरीब को खाना खिला देना ....दुआ मुफ्त में मिलेगी .....

    सचमुच क्या खूब लिखा था उस होटल में
    पता चला सचमुच ऐसे लोग होते हैं दुनियां में,

    उत्तर देंहटाएं
  6. कल कंपनी के काम से दम्माम (सउदी अरब का एक शहर) जाने का मौका मिला
    वैसे तो कई बार जा चुका हूं लेकिन कल की कुछ खास बात याद रह गई ...
    भूख तेज लगी थी सोचा कुछ खा लेते है भीड़भाड़ के इलाके में एक पाकिस्तानी चाचा के होटल पर रुके, ..
    टूटी कुर्सियां और पुराने गिलास होटल की माली हालत बयां कर रहै थे, खैर भूख मिटानी थी सो बैठ कर अपने खाने के ऑर्डर का इंतजार करने लगे.
    अचानक से नजर होटल के बोर्ड पर पड़ी उर्दू में कुछ लिखा था, जब गौर से पढा तो इसका मतलब समझ में आया होटल सस्ता और गरीब जरूर था मगर उस चाचा जैसी सोच 5 स्टार होटलों में भी नहीं मिलती

    लिखा था !!.
    खाना उतना ही ऑर्डर करो जितना खा सकते हो रोटियों पर अपनी अमीरी ना दिखाऔ
    याद रखो जो तुम्है मिला है कितनों को तो वो भी मयस्सर नहीं, ...
    अगर अमीरी ही दिखानी है तो किसी गरीब को खाना खिला देना ....दुआ मुफ्त में मिलेगी .....

    सचमुच क्या खूब लिखा था उस होटल में
    पता चला सचमुच ऐसे लोग होते हैं दुनियां में,

    उत्तर देंहटाएं
  7. हार्दिक अभार यशोदा जी , रचना को सम्मान देने के लिए ....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...