पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 11 जून 2016

330 ..... मैं प्रकृति हूँ





सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष



याद करें ये देश तुम्हे और परदेश में भी छा जाओ




पर मेरा पूछे एक सवाल
अगर बारिश में अपने घर  छत टपका पानी
तो कब  तक  रहोगे
या फिर अपनी छत बनवाओगे
खुद तो भारत छोड़ बस गए परदेश
क्या अपने देश  खातिर तुम कुछ नहीं  जाओगे
न लौटो देश  पर कुछ ऐसा कर जाओ







मगर सोचा नही यह कभी पहले
ये कंक्रीट के जंगल
मेरे एक झटके में हो जायेंगे कंकड़
करके सब विनाश
करेगा तू अब विकास
अब बादलों को भी तू है बांधता
गगन को अपने निकट है मांगता


शिखा शिखर



वे इन दिनों जीवन के शिखर पर थे। हालाकि मुकाम
अभी कई और थे जिन्हें वे छू लेना चाहते थे।
कई शख्श कई शरीरों में एक साथ रहते हैं।
मन :भाव बने रहते हैं कइयों के। मुझे अक्सर ऐसा ही लगा
वे मेरा भी एक्सटेंशन हैं। सम्पूर्ण थे शिव की तरह चन्द्र शेखर।


नया - पुराना



बात अभी चल ही रही थी कि बटुए के सभी नोट सहम गए।
हाथ का अंगूठा, तर्जनी और मध्यमा उंगली ने बटुए के भीतर झांका।
पुराना नोट खींच लिया गया।
नए नोट ने राहत की सांस ली
और वह आराम से सो गया।



एक स्कूल के 42 छात्र टाॅप टेन में आ जाते हैं
दूसरे बैठे रो रहे हैं अगर वाकई में वो स्कूल इतने अच्छे
विद्यार्थी तैयार करता है तो आपको पूरे बिहार में
ऐसे स्कूलों की स्थापना करनी चाहिए ।
बाकी।सच क्या है आप बेहतर जानते हैं ।




मेरी नौ कवितायें




हमारे यहां दंगे में सब नंगे होते हैं साहब यहां हिंदू मुस्लिम नहीं मरता
सिर्फ इंसान मरता है साहब देखिए कहीं आपकी रोटी ना जल जाए
इस आँच में आग बहुत तेज है साहब ,,,,,,,,, एक दिन सभी औरतें जला दी जाएंगी
और हम गलबहियाँ डाले अस्थियां चुन रहे होंगे घरों के कपाट
खुले रहेंगे भेड़िये अपनी मर्जी से औरतों को नोच जाएगा
और हम तमाशबीन बने रहेंगे औरतों के जिस्म पर चर्बी नहीं
सिर्फ हड्डी हुआ करेगी और हम हड्डियों की बाँसुरी निर्माण में
 लगे रहेंगे जो सिर्फ आँखो से बजा करेगी




जलती रही जौहर में नारियां




रणभूमि में जिनके हौसले
दुश्मनों पर भारी पड़ते थे.!
ये वो भूमि है जहॉ पर नरमुण्ड
घण्टो तक लड़ते थे.!!
रानियों का सौन्दर्य सुनकर
वो वहसी कई बार यहाँ आए.!





फिर मिलेंगे ..... तब तक के लिए
आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव



4 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर शानिवारीय प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति |

    आप सभी का स्वागत है मेरे इस #ब्लॉग #हिन्दी #कविता #मंच पर | ब्लॉग पर आये और अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें |

    ​http://hindikavitamanch.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  4. सादर चरणस्पर्श दीदी
    बेहतरीन व समसामयिक प्रस्तुति
    अच्छी लगी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...