पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 4 जून 2016

323 ..... तु मुझको दर्द भी देजा




सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


सुहागिनों का पर्व ..... वट सावित्री .... आज है

सभी को अक्षय शुभकामनायें



यादों के झरोखे से , माटी की कहानी

ह्रदय में लगी आग को
                       ना सहते हुए भी,
                             सहोगे।
                              और
                         ठंडी मौत के,
                      करीब रहकर भी,
                      जिस तरह आज,
                       मुझे गढ़ रहे हो ,
                         उस दिन भी ,
                           किसी को
                         गढ़ते ही रहोगे


तो अच्छा होता


अगर होते तो अच्छा होता,
नहीं हो तो भी अच्छा ही है,
एक पतवार से भी नाव चलती है
दूसरी होती तो अच्छा होता


खला


हर फैसला मुताहिद* होगा ज़िंदगी में, ये उम्मीद ही बेमानी है
है सुबूत कोई, मुखौटे सारे तब भी यूं फसादात नहीं करते?

ज़िंदगी कमील* है इन खलाओं* के ही जानिब*
ख्वाहिश और तकमील* दोनों को, ज़ाहिर* एक साथ नहीं करते


तो क्या बात होती



हर कदम पर होशियार, ज्यादा तमीज़दार बदस्तूर होते चले गए ,
जो अंदर की चीख-ओ-पुकार सुनी होती, तो कुछ और बात होती !

ज़िन्दगी से कदम-दर-कदम, ले हौसला आगे बढ़े,
जो ज़िन्दगी भी साथ होती, तो कुछ और बात होती !



पक्षियों की आत्महत्या



इस गाँव में बड़े-बड़े बाँस के वृक्ष हैं जिनमें फँस कर बहुत से
पक्षी मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं. पहले तो गाँव वालों ने इन पक्षियों का
मंडराना डरावना लगता था और वो इनको भागने का प्रयास करते थे.
कुछ शोधकर्ताओं ने यह माना है कि इस गाँव के ऊँचे बाँस के
 वृक्ष और रोशनी की तरफ आना मुख्यतः पक्षियों का भटकना है



तु मुझको दर्द भी दे जा



तेरा जो हाथ छोड़ू मैं ,
पकड़ कर तुम बिठा लेना,
गर हूं  नाराज़ मैं तुमसे,
पलट कर तुम मना लेना,
रिश्ते की एहमियत फिर से,
मुझको फ़िर से तुम सिखा देना



कुछ ख्वाहिशों के दावेदार हम भी हैं




दोस्ती न सहि चलो अदावत हि सहि
आपकी खुशी में जलें बारबार हम भी है ।

बहुत बातें कि है बर्बादीयों कि आपने
हर सम्त टूटकर तार तार हम भी हैं




फिर मिलेंगे ..... तब तक  के लिए

आखरी सलाम



विभा रानी  श्रीवास्तव




5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बेहतरीन रचनाओं का संगम
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. माटी की कहानी को स्थान देने का बहुत बहुत शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. माटी की कहानी को स्थान देने का बहुत बहुत शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...