पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 2 जून 2016

321.... ये तो बस एक साल गुज़रा है सारे जनम तो बाकी हैं अभी :)

सुप्रभात मैं संजय भास्कर एक बार फिर से हाजिर हूँ
 कुछ चुने हुए लिनक्स के साथ....!


एक साल !!! क्या बस सिर्फ एक साल ... ऐसा लगता है
 जैसे मैं तुम्हे बरसों से जानता हूँ ,सदियों से ,जन्मों से
तुम्हारी ये अटखेलियाँ करती हंसी ,
जैसे हो कोई ,
चांदनी सलोनी सी
उतर आती है आँगन में
और रोशन कर देती है
खामोश दिल की सुगबुगाहट...........शेखर सुमन 



दर्द रिस्ता है मोम की चट्टानों से
सुन कर लोग फ़ेर लेते हैं चेहरे
इन अफ़सानों से
जो निरंतर चले जा रहे हैं
किस्मत की अंधेरी बंद गलियों  में
मेरी स्याही के रंग...............मधुलिका पटेल 



हर्फ़ हर्फ़ गुजरो मेरी कविता से
और हर शब्द सोना हो जाए
बस लिख दूँ रौशनी
और रौशन हर इक कोना हो जाए
मन का पंछी ...........शिवनाथ कुमार 



तुम्हें बहुत शिकायतें है न...?
कि मैं प्यार नहीं करता
तुमसे
कि मैं ध्यान नहीं रखता
तुम्हारा
कि मैं वक़्त नहीं निकालता
तुम्हारे लिए
दिल से .......... स्नेहा राहुल चौधरी 



क़समें खाकर
खून के ख़त लिखकर
किए गए हों जो वादे
सिर्फ़ वही वादे नहीं होते
ख़ामोशी के साथ
आँखों ही आँखों में
होते हैं बहुत से वादे
साहित्य सुरभि .......दिलबागसिंह विर्क 



हे सर्वशक्तिमान शक्ति !
आज मांगती हूँ
तुमसे तुम्हारा एक
बहुत ही नन्हा सा लम्हा
अपने ही लिये .
झरोख़ा.............निवेदिता श्रीवास्तव



जिंदगी तो एक मुसीबत है
मुसीबत के सिवा कुछ भी नहीं  !!

पत्थरो तुम्हे क्यूँ पूजूं
तुमसे भी तो मिला कुछ भी नहीं !!
शब्दों की मुस्कराहट .........संजय भास्कर

और अंत में मेरी एक पुरानी रचना इसी के साथ ही आप सब मुझे इजाजत दीजिए अलविदा शुभकामनाएं फिर मिलेंगे अगले हफ्ते इसी दिन सादर अभिवादन स्वीकार करें

-- संजय भास्कर


6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    अच्छे से अधिक अच्छी रचनाएँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. लिंक्स सुंदर सजाते हो पुत्र
    सस्नेहाशीष

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी रचना को भी शामिल करने के लिए धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...