पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 13 मई 2016

301....२१ वीं सदी में स्त्री की स्थिति का जिम्मेदार कौन?


जय मां हाटेशवरी...

300 अंक पूरे हो चुके हैं...
अभी सफर काफी लंबा है.....
कहते हैं....
ताश के पत्तों से महल नहीं बनता,
नदी को रोकने से समंदर नहीं बनता,
बढ़ाते रहो जिंदगी में हर पल,
क्यूंकि एक जीत से कोई सिकंदर नहीं बनता
अब चलते हैं आज की चयनित रचनाओं की ओर...
पर सब से पहले....

s320/download%2B%25286%2529
कहा सूंघ माथा माता ने, परम प्रिय हो तुम राम के
वन के लिए विदा करती मैं, जाओ संग अपने भाई के
सेवा में प्रमाद न करना, सुख-दुःख में यह परम गति हैं
भ्राता के आधीन रहें वे, सत्पुरुषों का यही धर्म है
दान, यज्ञ, युद्ध में मरना, इस कुल का आचार यही
पिता तुम्हारे अब राम हैं, माँ मानना सीता को ही
वन ही अब अयोध्या होगा, सुखपूर्वक तुम जाओ
दिया राम को भी आशीष, मार्ग तुम्हारा मंगलमय हो


हर बूंद नगीना हो................वज़ीर आग़ा
s1600/%25E0%25A4%25B5%25E0%25A4%259C%25E0%25A4%25BC%25E0%25A5%2580%25E0%25A4%25B0%2B%25E0%25A4%2586%25E0%25A4%2597%25E0%25A4%25BC%25E0%25A4%25BE
ख़्वाबों में फ़क़त आना
क्यूं उसका करीना हो
आते हो नज़र सब को
कहते हो, दफ़ीना हो

किसे पड़ी है तेरे किसी दिन कुछ नहीं कहने की उलूक कुछ कहने के लिये एक चेहरा होना जरूरी होता है
s400/ae21f84387f2a4f3d3f95000eb66f66c
लिखे को पढ़ कर
लिखे पर सोचने
लिखे पर कुछ
कहने वाले कौन हैं
या किसने लिखा है
क्या लिखा है
लिख दिया है
बताने वाले
लोगों को सारा
लिखा पता होना
जरूरी नहीं होता है

स्टोपर्स
s640/prem
बढे चलो!
अरे भाई रुको न
क्यों हो जल्दी में!
हर मोड़ पर मिलते
उपदेश और सलाह
जिंदगी तो जैसे
1980 के जमाने का
दूरदर्शन !!
हर दस-बारह मिनट बाद ही
ब्लिंक करता दृश्य
रुकावट के लिए खेद है !

२१ वीं सदी में स्त्री की स्थिति का जिम्मेदार कौन?
&blogPostOrPageUrl=http://apr
हम औरते अक्सर बात करते हैं कि सदियों से मर्द औरतों पर अत्याचार करते आ रहे हैं। स्त्री को प्रताडित किया जा रहा है वगैरह वगैरह…… कभी किसी पुरुष को ये कहते
नही सुना गया कि वो भी प्रताडित होता है। आखिर क्या है सच? समाज में आज जो भी स्थिति स्त्री की है क्या उसके लिये सिर्फ पुरुष ही जिम्मेदार है? क्या स्त्री
खुद अपनी स्थिति के लिये जिम्मेदार नही?
चाहे एक पढी लिखी लडकी हो, या घरेलू लडकी, चाहे वो स्वयं अपना वर चुने या घर के सदस्य, उसके ख्वाबों में एक ऐसा लडका होता है जो उससे ज्यादा सक्षम हो, ज्यादा
आत्मनिर्भर हो। क्यों चाहती है हमेशा अपने से ज्यादा? क्या उसे अपनी क्षमता पर भरोसा नही? क्यों वह समाज में यह बात गर्व से नही कह पाती कि उसे मात्र इक सच्चा
और नेक जीवनसाथी चाहिये, उसे उसके स्टेटस, उसके सेलरी पैकेज, उसके बैंक बैलेंस से कोई लेना देना नही।

तय मान लीजिए - घनाक्षरी छंद
बिन   बात  हंसने जो   लग  जाओ  दिन  रात
                                      प्रेम के   हुए  बीमार   तय  मान  लीजिए।
देख   के  प्रिय  का भाल, लाल लाल होय गाल
                                        प्रेम  का चढा  खुमार   तय  मान  लीजिए।
अंग  में  उमंग  का   जो    रंग  चढ  जाए   तब
                                          हो  गया  तुम्हें  भी प्यार तय मान लीजिए।



आज बस यहीं तक...
कुलदीप ठाकुर




8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    बेहतरीन प्रस्तुति
    आभार...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. 301 से अब 501 और आगे तक अब इंतजार है मेहनत के फलीभूत होता दिखने का। दिखेगा किसी दिन जरूर जिस दिन शुरु होगा दिन कुछ कहे कुछ लिखे पर कुछ लिखाये कुछ दिखाये को देख कर लोगों के कलम उठा कर कुछ कह देने का । टिप्पणीयों का शतक दिखेगा किसी दिन यहाँ और जरूर दिखेगा । आभार 'उलूक' का आज की सुन्दर प्रस्तुति में सूत्र 'किसे पड़ी है तेरे किसी दिन कुछ नहीं कहने की उलूक कुछ कहने के लिये एक चेहरा होना जरूरी होता है' को जगह देने के लिये कुलदीप जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात ! सुंदर सूत्रों से सजी हलचल, आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर संयोजन। एक से एक शानदार लिंक। वाहहह

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...