पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 8 मई 2016

296..अपने भारत में वर्ष के पूरे तीन सौ पैंसठ दिन माँ के नाम ही तो है

आठ मई की सुबह
दिन रविवार
आज घर में कुछ काम नहीं
सब काम बच्चे व पतिदेव 
कर रहे हैं
काश !! ऐसा
गर सप्ताह में
दो दिन भी होता
तो सार्थक हो जाता
इनका मदर्स डे मनाना
मदर्स डे का अर्थ
आप एक दिन के लिए माँ है
बाकी के 
तीन सौ चौंसठ दिन ???

मन में आया सो लिख दी
यशोदा

अब चलें...... आज की पढ़ी रचनाओं को अवलोकन करें

भारतीय नारी में..डॉ, नीलम महेन्द्र
माँ तो माँ होती है,
माँ की ममता का इस धरती पर कोई मोल नहीं,
वह तो अनमोल होती है।
यह केवल शब्द नहीं
अपितु हम सभी ने इन पलों को जिया है।
माँ की गोद में बैठकर
खुद को सबसे ज्यादा महफूज महसूस किया है।

छान्दसिक अनुगायन में.....कवि कैलाश गौतम
इसे देखकर जल जैसे
लहराने लगता है ,
थाह लगाने वाला
थाह लगाने लगता है ,
होंठो पर है हंसी
गले चाँदी की हंसली है

आपका-अख्तर खान "अकेला" में...आपका-अख्तर खान "अकेला"
मैं खिलौना था
तुम्हारा
खेलते खेलते
टूट गया तो क्या ,,
मेरा क्या क़ुसूर है
अजीब फितरत है

पलाश में...... अपर्णा त्रिपाठी
चाहा तुमने मुझको, ये मुझपर है अहसान तेरा
साथ मेरी सांसो के जो, साथी है अहसास तेरा
तेरी आरजू न बन पाऊं, खता नही हो सकती हूँ


गुज़ारिश में....सरिता भाटिया
अगर झूठ बोलूँ
शर्म से  नजरें झुकाता है यह
अगर सच बोलूँ
शान से सर उठाता है

आय विल रॉक में......नितीश तिवारी
जब वक़्त गुजरता जाता है,
सपने बड़े हो जाते हैं।
पूरा करने को इन्हें,
हम जी जान लगाते हैं।


कविता-एक कोशिश में...नीलांश
हैं पूछते सवाल पर जवाब नहीं हो ,
आसमाँ तो चाहिए आफताब नहीं हो


और आज की शीर्षक रचना की कड़ी

मेरी धरोहर में.....यशोदा
मदर्स डे
यद्यपि है तो ये
पाश्चात्य परम्परा....
उन्होंने ही...
किसी को महत्वपूर्ण जताने
साल का एक दिन..
उसके नाम कर दिया

आज लिंक्स कायदे से अधिक हैं
आज्ञा दें कर फिर मिलते हैं
सादर
यशोदा










5 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. किसी को घर मिला,किसी के हिस्से दुकान आयी।
    घर में सबसे छोटा था मैं, मेरे हिस्से माँ आई ।।
    ---- मुनव्वर राणा

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...