पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 4 मई 2016

292....बन्ध जाते ख्वाहिशों के रेशमी सूत में.

सादर अभिवादन
एप्रिल जा चुका
मे भी चला जाएगा
नियम ही है
जो आता है
उसे जाना ही होता है....



स्तब्ध जलधि 
दूर छूटता कूल 
एकाकी मन ! 


दो  चार  बार  हम जो कभी हँस-हँसा   लिए
सारे  जहाँ  ने  हाथ  में  पत्थर   उठा   लिए,
रहते   हमारे   पास   तो    ये   टूटते    जरूर
अच्छा  किया  जो  आपने  सपने  चुरा लिए,
जब  हो  सकी  न बात तो हमने  यही  किया
अपनी  गजल  के  शेर  कहीं  गुनगुना  लिए,
अब  भी  किसी  दराज  में मिल जाएँगे तुम्हें
वो खत जो तुम्हें दे न सके लिख लिखा लिए।
- कुँअर बेचैन


न स्वप्न आने बंद होते है,
न स्वप्न कभी पूरे होते .
वो तो बस ...
आपको भगा भगा कर
थका कर 
कहीं ठंडी छाँव में
आपके सुस्ताने का इंतज़ार करते हैं.


हर भाग की 
अपनी भाषाएं हैं,
शिक्षा का कोई
अब आधार नहीं है,
धरा बंट चुकी है
कई भागों में...
जब से बंटा है
ये सब कुछ,
बंटा है तब से  
मानव भी  कई भागों में। 


पर वह मेरा नहीं था, यह कैसे मान लूँ ?
क्या तुम देवकी के नहीं थे ?
यशोदा के नहीं थे ?
राधा के नहीं थे ? .... 
यदि यही सत्य है तो लुप्त कर दो कहानियाँ 
क्योंकि,
सारी कहानियाँ भी तो यहीं बनी थीं 
यहीं रह गईं 
फिर कहना-सुनना ही क्या है !
कहो कृष्ण !!!


और अंत मे आज की शीर्षक रचना
डेरा डाले पलकों में
 पल-पल तुम्हारी,
गिनूँ थरथराहट
 पुतलियों की,
गोल-चन्द्राकार-पनैला,
तैरूँ, नील गगन में !
अगणित सपनों के मोती.
डूबते,तैरते,उतराते
और बन्ध जाते
ख्वाहिशों के रेशमी सूत में.
.......

आज यहीं तक
दें इज़ाज़त दिग्विजय को
फिर मिलते हैं...








7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर सूत्र एवं स्तरीय रचनाएं ! आज के चयनित सूत्रों में मेरी रचना 'पिघलती शाम' को सम्मिलित करने के लिये आपका बहुत-बहुत आभार दिग्विजय जी ! धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...